पीएम नरेन्द्रमोदीकी उच्च स्तरीय बैठकमें राष्‍ट्रविरोधी गतिविधियोंमें लिप्‍त ‘एनजीओ’के निधिबन्धनकी (फण्डिंग) जांचके आदेश !


जून ११, २०१८

भारत राष्‍ट्रविरोधी गतिविधियोंमें लिप्‍त गैरसरकारी संगठनोंके (एनजीओ) विरुद्ध और सख्त करनेके लिए तैयार है ! प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदीकी अध्‍यक्षतामें इसको लेकर उच्‍चस्‍तरीय बैठक हुई है । मोदीने शीर्ष सुरक्षा अधिकारियोंको वैसे ‘एनजीओ’के निधिबन्धनपर (फण्डिंगपर) विशेषतया देखरेख रखनेको कहा है, जिनपर राष्‍ट्रविरोधी गतिविधियोंमें संलिप्‍त होनेका सन्देह है । प्रधानमन्त्रीने साथ ही विभिन्‍न राज्‍योंकी पुलिससे भी अच्छे सम्पर्क रखनेका निर्देश दिया है ! गृह मन्त्रालय राज्‍योंसे सम्पर्क साधकर इस प्रकरणपर कार्य करेगा । ‘फर्स्‍ट पोस्‍ट’के अनुसार, मोदीने हाल में ही इस प्रकरणपर गम्भीर चिन्ता दिखाई थी । विगत कुछ वर्षोंसे सरकारी जांच विभागोंने ‘एनजीओ’के निधिबन्धनको रोकनेकी प्रक्रिया तेजकी है । दानमें मिले धनका दुरुपयोग करनेके प्रकरणमें कई गैरसरकारी संगठनोंपर कार्रवाई भी की गई है, विशेषतया ऐसे संगठनोंके विरुद्ध, जिनपर देशकी सम्प्रभुताके लिए संकट पैदा करनेका संदेह था । गत वर्ष उच्चतम न्यायालयने भी इसपर चिन्ता दिखाते हुए केन्द्रसे ‘एनजीओ’को मिलने वाले सरकारी दानको विनियमित करनेके लिए नियम तय करनेकी बात कही थी । देशमें लगभग ३० लाख गैरसरकारी संस्‍थाएं संचालित हो रही हैं । इनमेंसे केवल १० प्रतिशत ‘एनजीओ’ही आय -व्‍ययका ब्‍यौरा देते हैं । एक आंकलनके अनुसार, ‘एनजीओ’इसका लाभ उठाकर सरकारसे मिलने वाले ९०० कोटि रुपये व्यय करते हैं । विदेशोंसे मिलने वाला दान भिन्न है ।

विगत कुछ वर्षोंमें देशमें संचालि‍त कुछ गैरसरकारी संस्‍थाओंकी कार्यप्रणालीने सन्देह बढाया है । शीर्ष अधिकारीने बताया कि ‘सीबीआई’के एक विवरणमें अधिकतर ‘एनजीओ’द्वारा बिना किसी उत्तरदायित्वके कार्य करनेकी बात कही गई है । उच्चतम न्यायालय भी पूर्व में ऐसे संगठनोंकी पारदर्शितापर प्रश्न कर चुका है । इस अधिकारीने बताया कि ‘एनजीओ’सामाजिक बदलावमें सहायक सिद्ध हो सकते हैं; लेकिन कुछ संगठनोंकी गतिविधियोंसे राष्‍ट्रीय हितोंपर प्रतिकूल प्रभाव भी पड सकता है । कई संगठनोंद्वारा देश हितके विरुद्ध कखर्य करनेके साक्ष्य मिलनेके बाद मोदीने ‘एनजीओ’के दानकी देखरेख बढानेके निर्देश दिए हैं । विवादास्‍पद धर्म प्रचारक जाकिर नाइकके संगठन ‘इस्‍लामिक रिसर्च फाउण्डेशन’का प्रकरण सामने आनेके बाद दृढतासे नियन्त्रणके लिए पग उठानेके लिए तत्पर है ।

अंक -विवरणानुसार, ‘एनजीओ’को देश और विदेशोंसे लगमग २७ सहस्त्र कोट्यावधिका दान मिलता है ! गृह मन्त्राल के अनुसार ‘विदेशी दान विनियमन कानून’ (एफसीआरए), २०१० के अन्तर्गत २५,००० कोटि संस्‍थाएं पंजीकृत हैं । वर्ष २०१६ -१७ के अन्तर्गत इन संगठनोंको विभिन्‍न मदमें १८,०६५ कोटिका दान मिला था । इनमेंसे अधिकांश ‘एनजीओ’को बडे संस्थानोंकी ओरसे भी दान मिला है !

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution