हिन्दू संगठनके नेताओंकी हत्याके षडयन्त्र करनेके प्रकरणमें तीन स्थानोंपर छापे मार धर्मान्ध फैजल, अनवरको बन्दी बनाया !!


दिसम्बर १९, २०१८

हिन्दू संगठनके नेताओंकी हत्याका षडयन्त्र रचनेके प्रकरणमें एनआईएने बुधवार, १८ दिसम्बरको तमिलनाडुके कोयम्बटूरमें तीन स्थानोंपर छापेमारी की । पुलिसने हिन्दू मक्कल काचीके प्रमुख अर्जुन सम्पत और हिन्दू मुन्नानीके नेता मुकाम्बिका मानी सहित अन्य लोगोंकी हत्याका षडयन्त्र करनेके प्रकरणमें गुप्त सूचना मिलनेके पश्चात सितम्बरमें पांच लोगोंको बन्दी बनाया था । इसके पश्चात दो अन्य लोगोंको उन्हें आश्रय देने और उनके लिए वाहनकी व्यवस्था करनेके आरोपमें बन्दी बनाया गया था । पुलिसके अनुसार ये लोग ‘आईएसआईएस’ तथा अन्य आतंकवादी संगठनोंसे प्रेरित हैं और उन्होंने ही षडयन्त्र किया था । इसको बादमें राष्ट्रीय जांच विभागको (एनआईए) सौंप दिया गया । पुलिसने बताया कि बन्दी बनाए गए लोगोंमेंसे तीनके घरपर आज छापेमारी की गई । एनआईए अधिकारियोंके यहां पहुंचनेके पश्चात छापेमारी की गई । पुलिसने बताया कि उन्होंने उक्कदममें फैजलके घर, चन्द्रन स्ट्रीटपर आशिकके घर और कुनियामुथुरमें अनवरके घर की छानबीन की ।

 

“धर्मनिरपेक्ष हिन्दुओ ! फैजल, आशिक और अनवर, सम्भवतः यह बतानेकी आवश्यकता नहीं है कि ये नाम किनके है ? धर्मान्ध भारतमें जैसे-तैसे अपनी संख्या बढानेको आतुर रहते हैं, तत्पश्चात अपने ‘आकाओं’के माड्यूलको मानकर हिन्दुओं व हिन्दुओंके पक्षमें बोलने वाले नेताओंको मारते हैं अथवा षडयन्त्र करते हैं और यह कोई प्रथम प्रकरण नहीं है ! इससे ही इनकी विषकारी वृत्ति उजागर होती है । शासन त्वरित इसपर संज्ञान ले कठोरसे कठोर कार्यवाही करें, ऐसी सभी हिन्दुत्वनिष्ठोंकी मांग है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution