कश्मीरी युवकोंको पाकिस्तान दे रहा है आज्ञा-पत्र (वीजा), आइएसआइके षडयन्त्रका प्रकटीकरण


जुलाई १७, २०१८

गुप्तचर विभागके एक विवरणके अनुसार कश्मीरमें पाकिस्तानके गुप्तचर विभाग ‘आईएसआई’की एक षडयन्त्रका प्रकटीकरण हुआ है । कश्मीरमें आतंकियोंको भिडन्तमें मारनेकी घटनाओंसे भयभीत आईएसआई अब कश्मीरी युवकोंको वीजाकेद्वारा पाकिस्तान बुला कर उन्हें भारतपर आतंकी आक्रमणका प्रशिक्षण देनेमें लगी हुई है ।

गृह मन्त्रालयको भेजे एक विवरणमें जांच विभागने कुछ बन्दी बनाए आतंकियोंसे हुई पूछताछके आधारपर ‘आईएसआई’के नवीन षडयन्त्रका प्रकटीकरण किया है । शासनको भेजे अपने विवरणमें जांच विभागने कहा है कि कश्मीरमें उपस्थित आतंकी अपने संगठनमें आतंकियोंकी भर्तीके लिए नेटवर्क बनाया हुआ है ।

कश्मीरमें आतंकी सबसे प्रथम उन युवकोंकी सूची तैयार करते हैं, जिन्हें सरलतासे अपने दलमें प्रविष्ट किया जा सकता है । सूचीको पाकिस्तान भेजा जाता है, जिसके पश्चात ऐसे कश्मीरी युवकों पाकिस्तानी आदेश-पत्र (वीजा) उपलब्ध कराया जाता है, जो पाकिस्तान आकर आतंकी प्रशिक्षण लेना चाहते हैं ।
 
पाकिस्तानमें इन कश्मीरी युवकोंको पाक अधिकृत कश्मीरमें उपस्थित आतंकी शिविरमें भेजा जाता है, जहांपर फिदाईन आक्रमणसे लेकर शस्त्र चलानेका प्रशिक्षण दिया जाता है । प्रशिक्षण पूर्ण हो जानेके पश्चात इन्हें वापस भारत भेजा जाता है और फिर कश्मीरमें उपस्थित आतंकियोंका समूह इन्हें शस्त्र उपलब्ध कराता है ।


भारत पाकिस्तान सीमापर अधिक चौकसी होनेके कारण आतंकियोंके लिए सीमा पार करना इतना सरल नहीं है । आतंकियोंके दल भारतमें प्रविष्ट होनेके अन्तराल सुरक्षा बलोंकी कार्यवाहीमें मारे जाते हैं, जिससे आतंकियोंके प्रवेशमें ‘आईएसआई’को काफी परेशानी आती हैं ।

गुप्तचर विभागके अनुसार ‘आईएसआई’ भारतपर बडे आक्रमण न कर पानेके कारण बौखलाहटमें हैं और वह ‘जैश-ए-मोहम्मद’के साथ मिलकर समुद्रके रास्ते भारतपर एक और बडेक्षआतंकी आक्रमण करनेका अवसर ढूंढ रहे है । यही नहीं पाकिस्तानके बहावलपुरमें जैशके आतंकियोंको पानीमें गहरे गोते लगाने और तैरनेका विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है । विभागके अनुसार आने वाले दिनोंमें आतंकी नौसेनाके स्थान या सम्पत्तिको लक्ष्य बना सकते हैं ।

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution