पाकिस्तान से आए हिन्दू शरणार्थियोंको अति विकट परिस्थितियोंमें भी सहायता नहीं मिल रही !


अगस्त २, २०१८

वर्ष २०१३ में पाकिस्तानसे भागकर हिन्दुस्तान पहुंचे ६२० हिन्दू शरणार्थियोंकी मुश्किलें निरन्तर बढती जा रही हैं । लगभग दो माहसे बिना बिजलीके रह रहे इन लोगोंकी परेशानी वर्षाके कारण और अधिक बढ गई है । हर स्थानपर विनती करनेके पश्चात भी कोई सहायता नहीं मिली ।

स्थिति यह है कि जहांगीर पुरीके मजलिस पार्क मेट्रो स्टेशनके पीछे सेनाकी भूमिपर ये शरणार्थी जर्जर परिस्थितियोंमें रहनेको विवश हैं । इनके शिविरोंके निकट नाले बन गए हैं और गहरे स्थानोंपर जल भराव हो गया है, जिनमें मच्छरोंके पनपनकी गति तीव्र हो गई है । इससे इन शरणार्थियोंमें डेंगू-मलेरिया जैसे रोगों फैलनेका संकट बढ गया है ।

गत दिवस बिजली विभागके कर्मचारियोंने इनके शिविरोंसे बिजलीका संचार हटा दिया था । दो माहके पश्चात भी आज तक इन शिविरोंमें बिजलीकी सुविधा आरम्भ नहीं करवाई जा सकी ! गर्मीमें कडी धूप और वर्षाकी घुटनके मध्य ये लोग बहुत विकट स्थितियोंमें जी रहे हैं ।

कुल ६२० हिन्दू शरणार्थियोंमें १६० बच्चे और २४० महिलाएं हैं । सभी २२० पुरुष स्थानीय विपणिमें श्रमिकोंके रुपमें कार्य कर रहे हैं । कुछ लोग रेहडी लगाते हैं या कोई छोटे-मोटे सामान बनाकर लोगोंको विक्रय करते हैं और उससे हुई आयसे पेट भर रहे हैं । इन शरणार्थियोंकी सहायता कर रहे एक समाजसेवी हरिओमने बताया कि कुछ लोगोंके सहयोगसे यहां एक छोटा सा विद्यालय खुलवा दिया गया है, जहां इनके बच्चोंको प्राथमिक शिक्षा दी जा रही है; लेकिन इसके लिए उन्हें किसी प्रकारका कोई शासकीय सहयोग नहीं मिल रहा है । हरिओमने बताया कि कुछ दूरीपर आंगनवाडी जैसे कार्यक्रम चल रहे हैं; लेकिन इन बच्चोंके लिए प्रयास करनेके पश्चात भी वे आंगनवाडी खुलवानेमें सफल नहीं हो सके ।

उन्होंने बताया कि इन लोगोंकी सहायताके लिए उन्होंने कई लोगोंसे सम्पर्क किया; लेकिन कहींसे कोई सहायता नहीं मिली । वे इनकी समस्याओंको लेकर केन्द्रीय मन्त्री हर्षवर्धन, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारीसे लेकर दिल्ली शासनतक में प्रत्येक स्थानपर विनती की; लेकिन उन्हें इसका कोई लाभ नहीं मिला ! भाजपासे स्थानीय पार्षद गरिमा गुप्ता और आम आदमी पार्टीसे विधायक पवन कुमार शर्मासे भी सहायताके नामपर उन्हें आश्वासनके अतिरिक्त और कुछ नहीं मिला है ।

हरिओमने बताया कि इन हिन्दू शरणार्थियोंको यहां रहते लगभग पांच वर्षका समय बीत चुका है; लेकिन एक भी शरणार्थीके विरुद्ध एक भी ‘एफआईआर’ तक नहीं है ! अर्थात ये शान्तिप्रिय लोग हैं, जो किसी प्रकारसे अपना गुजारा कर रहे हैं । वहीं इनके शिविरोंसे कुछ ही दूरीपर बसे बांग्लादेशी और रोहिंग्या शरणार्थी दिल्लीकी सुरक्षाके लिए संकट बने रहते हैं । समय-समयपर उनके विरुद्ध कई अभियोग प्रविष्ट हुए हैं, जबकि हिन्दू शरणार्थियोंके विरुद्ध कहीं कोई परिवाद प्रविष्ट नहीं कराई गई है ।

क्यों पहुंचे थे हिन्दु्स्तान
पाकिस्तानी हिन्दुओंके इस पलायनके पीछे जो वेदना छिपी हुई है, उसे सरलता से नहीं समझा जा सकता है । शरणार्थियोंने बताया कि पाकिस्तानमें उन्हें केवल हिन्दू होनेके कारण उनका ऐसा शोषण किया जाता है जिसे बताया नहीं जा सकता । इनके अन्दर छिपा भय इसी बात से समझा जा सकता है कि भारतमें होनेके बाद भी वे खुलकर कुछ बतानेको तैयार नहीं हैं ! एक शरणार्थीने नाम न बताए जानेके वचनपर अमर उजालाको बताया कि एक-एक कर उनकी दो बेटियोंको दिन दहाडे उठा लिया गया । उनका धर्म परिवर्तन कर किसी मुसलमानसे विवाह कर दिया ! आज वे नहीं जानतीं कि उनकी बेटियां कहां और किस स्थितिमें हैं ? इन अपमान भरी परिस्थितियोंसे बचनेके लिए उन लोगोंने पाकिस्तानसे भागना ही ठीक समझा ।
एक हिन्दू शरणार्थीने बताया कि विरोध करनेपर उन्हें पुलिस उठा ले जाती थी, बिना किसी चूकके भी उनपर कोई झूठा अभियोग बनाकर एक-एक वर्ष तक कारावासमें भर दिया जाता था !

शरणार्थीने बताया कि उन्हें नूतन शासन बननेपर भी किसी वस्तुकी कोई आशा नहीं है । इसका कारण है कि उनपर जो अत्याचार होते हैं, वह स्थानीय लोगों और स्थानीय पुलिसके सहयोगसे होते हैं । शासन तो सीधे रूपसे उन्हें कुछ नहीं कहती; लेकिन उनके साथ शोषण करने वालोंके विरुद्ध कोई पग भी नहीं उठाती ! यही कारण है कि पाकिस्तानमें अल्पसंख्यक नष्ट होनेकी सीमापर हैं । उन्होंने कहा कि पाकिस्तानमें स्थिति ठीक होनेतक वे वापस नहीं जाना चाहते ।

स्रोत : अमर उजाला



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution