मुझे बन्दी बनाना, मुख्यमन्त्री विजयनद्वारा जिहादियोंको रमजानकी भेंट ! – पूर्व विधायक पी.सी. जॉर्ज


४ मई, २०२२
           मुझे बन्दी बनाकर मुख्यमन्त्री विजयन पिनराईने रमजानके उपलक्ष्य आतङ्कवादी मुसलमानोंको भेंट दी है, पूर्व विधायक एवं कांग्रेसके पूर्व नेता पी.सी. जॉर्जने ऐसी टिप्पणीकी है । जॉर्ज और बताते हैं, मैं एक बात स्पष्ट करना चाहता हूं कि मैं मेरे कथनपर अभी भी अडिग हूं । मैंने अनुचित विधान किया होता, तो वह विधान ‘वापस’ लेकर क्षमा मांगनेमें भी मैं पीछे नहीं रहता । मेरा भाषण हिन्दू महासम्मेलनमें हुआ था । मैंने वहां यही कहा था कि मुझे मुसलमान कट्टरवादियोंके चुनावी मतोंकी आवश्यकता नहीं है । जो भारतसे प्रेम नहीं करता, ऐसे किसी भी व्यक्तिके, चाहे वे ईसाई, मुसलमान अथवा हिन्दू क्यों न हों, मुझे उनके मत नहीं चाहिए । ऐसा विधान करनेपर मुझे धर्मान्ध कैसे कहा जा सकता है ? उन्होंने ऐसा प्रश्न भी उपस्थित किया ।
          पी.सी.जॉर्जने हिन्दू महासम्मेलनमें भाषण देते हुए कहा था, ‘मुसलमानोंके उपहारगृहोंमें हिन्दुओंको नंपुसक बनानेका प्रयत्न किया जाता है । वहां चाय जैसे पेयमें औषधि डाली जाती है, जिससे व्यक्ति नंपुसक हो जाता है; अत: ऐसे उपहारगृहोंका बहिष्कार किया जाए । अन्य धर्मियोंको नंपुसक बनाकर मुसलमान देशपर नियन्त्रण करना चाहते हैं और स्वयंकी जनसंख्या भी बढा रहे हैं । इस कथनसे जॉर्जके विरुद्ध परिवाद प्रविष्टकर उन्हें बन्दी बनाया गया था ।
       पूर्व विधायक पी.सी. जॉर्जका कथन सर्वथा सत्य है । इस सत्यको हिन्दू जितनी शीघ्र समझ लें उतना श्रेष्ठ होगा । – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
साभार : https://sanatanprabhat.org 


Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution