पीडीपी नेताने ‘मॉब लिंचिग’पर दी दूसरे विभाजनकी चेतावनी !


जुलाई २८, २०१८

गौरक्षाके नामपर देशके विभिन्‍न भागोंसे हिंसाके समाचार निरन्तर सामने आ रहे हैं । प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदीके परामर्श और उच्चतम न्यायालयके आदेशके पश्चात भी इस प्रकारके प्रकरणपर विराम नहीं लग रहा है । इस मध्य विभिन्‍न दलोंके नेताओंकी ओर से भडकाने वाले वक्तव्य भी सामने आ रहे हैं । अब पीडीपीके एक नेताने क्रोधित करने वाला वक्तव्य दिया है । पीडीपी नेता मुजफ्फर हुसैन बेगने कहा, ‘गाय और भैंसके नामपर मुसलमानोंका रक्त बहाना बन्द करें, अन्यथा परिणाम अच्‍छे नहीं होंगे ! वर्ष १९४७ में देशका एक विभाजन पहले ही हो चुका है ।’ मुजफ्फर बेगने एक सभाको सम्बोधित करते हुए दूसरे विभाजनकी चेतावनी दे डाली ! पीडीपी नेताका सामाजिक प्रसार माध्यमपर वक्तव्य सामने आते ही लोगोंने कडी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करनी आरम्भ कर दी । आरोही त्रिपाठीने लिखा, ‘एक और धमकी ! बंटवारा हो गया तो अभी भी हिन्दुस्‍तानमें क्‍या कर रहे हो ?…भागो यहां से !’ नेहा पाण्डेने ‘ट्वीट’ किया, ‘तब गांधी और नेहरू थे…अब वो नहीं हैं ! विभाजनको छोडो, तुम्‍हें विभाजितकर पाकिस्‍तान भेजेंगे !’ जैद हामिदने लिखा, ‘बांग्‍लादेशमें पहले से ही रोहिंग्‍या हैं, ऐसे में आप कहां जाएंगे ?’

गौरक्षाके नामपर की जा रही हत्‍याको लेकर मोदी पहले ही चिन्ता दिखा चुके हैं । उच्चतम न्यायालय भी इस प्रकारकी घटनाओंपर अविलम्ब रोक लगानेका आदेश दे चुका है । इसके पश्चात भी गायकी रक्षाके नामपर ‘मॉब लिंचिंग’की घटनाएं थमनेका नाम नहीं ले रही हैं । कुछ दिवस पूर्व ही राजस्‍थानके अलवरमें रकबर खान नामक युवककी उग्र भीडने हत्‍या कर दी थी ! वह अपने मित्रके साथ गाय ले जा रहा था । इस प्रकरणमें पुलिसकी लापरवाही भी सामने आई थी । इसके अतिरिक्त उत्‍तर प्रदेश, झारखण्ड, मध्‍य प्रदेश जैसे राज्‍योंमें भी इस प्रकारकी घटनाएं हो चुकी हैं । पुलिसके प्रयासोंके बाद भी इस प्रकारकी घटनाओंपर रोक नहीं लग पा रही है । ‍हिंसक घटनाओंके मध्य राजनेता भी देने से पीछे नहीं हट रहे हैं । विपक्षी दल इसपर भाजपाको उत्तरदायी मान रहे हैं ।

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution