‘पेटा’ने की बकरीदपर पशुओंकी अवैध ‘बलि’ रोकनेकी मांग


अगस्त १०, २०१८

पशुओंके हितोंके लिए कार्य करने वाली संस्था ‘पेटा’ने सभी राज्य शासनको पत्र लिखकर मांग की है कि बकरीदके अवसरपर होने वाले पशुओंकी अवैध प्रकारसे बलिको रोका जाए ! ‘पेटा’ने कहा है कि पशुओंका वध केवल अनुमति पत्रक (लाइसेंस) वाली वधशालामें ही होना चाहिए ।

‘पीपल फॉर द एथिकल ट्रीटमेण्ट ऑफ एनिमल्स’ने सभी राज्योंके मुख्य सचिवों, पुलिस महानिदेशक, और पशुधन विभाग सहित कई अन्य विभागोंको पत्र लिखकर यह अनुरोध किया है कि बकरीदसे पूर्व पशुओंके अवैध व्यापार और हत्याओंको रोकनेके लिए सभी सम्भव कदम उठाए जाएं ।


पेटाने एक वक्तव्यमें कहा, ‘राज्य शासनका यह कर्तव्य है कि देशके पशु संरक्षण विधानको लागू करें और इसका पालन कराएं ! ‘पेटा’की यह मांग है कि सभी जानवरोंके कटनेपर रोक लगाएं !’

‘पेटा इण्डिया’ने कहा है कि मांसके लिए पशुओंकी हत्या और उनकी बलिसे सम्बन्धित दो प्रकरणपर १७ फरवरी, २०१७ और १० अप्रैल २०१७ के आदेशकेद्वारा उच्चतम न्यायालयने कहा था कि पशुओंका वध केवल आधिकारिक अनुज्ञापत्र (लाइसेंस) वाले वधशालामें ही किया जा सकता है; इसलिए नगर निगमोंको इस आदेशका पालन कराना ही होगा ! पशुओंकी हत्या और बलि ‘पशुओं के प्रति क्रूरता नियम, २००१’, ‘खाद्य सुरक्षा एवं मानक रेगुलेशन, २०११’के भी विरूद्ध है । ‘खाद्य सुरक्षा एवं मानक रेगुलेशन, २०११’के अनुसार मांसके लिए ऊंटकी हत्या पर रोक है, जबकि बकरीदके समय इनकी भी बलि दिए जानेका चलन है ।

‘पेटा’ने लोगोंसे अनुरोध किया है कि धार्मिक समारोहके नामपर जानवरोंकी हत्या न करें ! ‘पेटा’ने कहा है कि त्यौहारके मध्य पशुओंकी ढुलाईमें ‘पशु परिवहन नियम, १९७८’का भी उल्लंघन किया जाता है ।

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution