‘सीडीएस’ रावतको जब देश दे रहा था श्रद्धांजलि तब प्रियंका गांधीने किया नृत्य, दांत चियारनेका दृश्यपट देख क्रोधित हुए लोग


१० दिसम्बर, २०२१
      तमिलनाडुमें हुई घटनाके पश्चातसे समूचा देश दुःखमें डूबा हुआ है । बडे-बडे नेतासे लेकर सामान्य जन सभी ‘सीडीएस’ जनरल रावतकी मृत्युके समाचारसे दुखी हैं । ऐसी स्थितिमें प्रियंका गांधीके नृत्यका एक दृश्यपट सामने आया है, जिसे देख ‘नेटिजन्स’ (जो ‘इन्टरनेट’पर अति सक्रिय रहते है ) क्रोधित हो गए हैं । इस दृश्यपटमें वह नृत्य-गान करती हुई, प्रसन्न दिखाई दे रही हैं । दृश्यपटको देखनेके पश्चात लोगोंने उनके उद्देश्यपर प्रश्न उठाए हैं । उनसे कहा है कि उन्हें देशसे कोई लेना-देना नहीं है ।
      ‘भाजपा’के राष्ट्रीय प्रवक्ता शहजाद जय हिंदने ‘ट्वीट’कर कहा, “एक ओर समूचा देश हमारे शूरवीरोंके जानेसे दुखी है । अभीतक ‘सीडीएस’ बिपिन रावतके अन्तिम दर्शन करके समूचे देशकी आंखें आर्द्र हैं और दूसरी ओर प्रियंका गांधी प्रसन्नतासे नृत्य कर रही हैं रही हैं, उत्सव मना रही है, वे इस स्थितिको टाल भी सकती थीं; किन्तु उन्होंने ये नहीं किया ।”
    एक ‘ट्विटर यूजर’ने स्मरण करवाया कि जब २६/११ हुआ था तो राहुल गांधी रात्रिसे सवेरेतक ‘पार्टी’ कर रहे थे और जब समूचा देश ‘सीडीएस’ जनरल बिपिन रावतके अन्तिम संस्कारके चलते गहरे दु:खमें डूबा हुआ था, तो उसी समय भाईके पदचिह्नोंपर चलती हुईं प्रियंका वाड्रा भी गोवामें नृत्य कर रही थीं । क्या इससे भी अधिक कुछ लज्जासपद हो सकता है ?
            बता दें कि गोवा विधानसभा चुनावकी सिद्धतामें (तैयारीमें) जुटी प्रियंका गांधीने शुक्रवारको गोवामें पहुंचकर आदिवासी महिलाओंके साथ नृत्य किया ।
      देशके वीरोंको श्रद्धांजलि न देकर, केवल सत्ता सुखके लिए सिद्धता करना बताता है कि आजके तथाकथित नेताओंके लिए सत्ता सुख ही सर्वोपरि है । ७० वर्षसे भी अधिक समयतक जिस कांग्रेस दलने देश शासनपर किया, वहीं अब देशके वीरोंका अपमान कर रही है । इससे भान होता है कि देशके लोगोंने कैसे लोगोंको सत्ताका भार सौंपा था ? वास्तवमें, ऐसे नेता चुनावमें खडे होनेकी पात्रता नहीं रखते है । यह देश अवश्य ही स्मरण रखेगा । – सम्पादक, वैदिक उपाासना पीठ
 
 
स्रोत : ऑप इंडिया


Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution