अब ‘राम और रामायण’केद्वारा भाजपा और आरएसएसको रोकेगी कांग्रेस-सीपीएम !


जुलाई १४, २०१८

देशमें मतदान आते ही ‘हिन्दुत्व’की कार्यसूची (एजेण्डा) बलशाली होने लगती है । भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) तो पहले से ही हिन्दुत्वका ध्वज लिए खडे हैं और अब इस श्रृंखलामें कांग्रेस और सीपीएम भी आ गए हैं । केरलमें कुछ ऐसा ही देखनेको मिल रहा है । केरलकी राजनीति भी अब ‘राम और रामायण’के आश्रय चलने लगी है । राज्यके दो प्रमुख राजनीतिक दल सीपीएम और कांग्रेस ‘राम’के आश्रय एक दूसरेको पराजित करनेमें लगे हुए हैं । इस कार्यक्रमका एक प्रमुख लक्ष्य ये भी है कि कैसे भाजपा और आरएसएसके बढते प्रभावको रोका जाए ?

बता दें कि केरलमें १७ जुलाईसे ‘रामायण मास’का आयोजन किया जा रहा है । इस मध्य राज्यके अधिकतर हिन्दू घरोंमें प्रतिदिन महाकाव्यका पाठ होता है । हिन्दुओंका ऐसा मानना है कि मानसूनके साथ आने वाले रोग और अन्य समस्याओंसे ये उनकी रक्षा करता है । सीपीएमने हिन्दू मतोंपर और अधिक पकड बनानेके लिए उपदेशोंका आयोजन किया है, ताकि भगवान रामको जनताके समक्ष लाया जा सके । वहीं, कांग्रेसने भी अपने ‘विचार विभाग’केद्वारा रामायणसे सम्बन्धित कार्यक्रमकी योजना बनाई है ।

‘रामायण मास’के प्रथम दिवस अर्थात १७ जुलाईको कांग्रेस नेता शशि थरूर तिरुवनन्तपुरमसे उद्घाटन सम्बोधन देंगे । कांग्रेसके ‘विचार विभाग’के अध्यक्षका कहना है कि ये प्रथम बार है कि कांग्रेस ‘रामायण मास’में रामायणसे सम्बन्धित कार्यक्रम कर रही है । उन्होंने कहा कि महात्मा गांधीने जिस राम राज्यका स्वप्न देखा था, उसे पूरा करनेका प्रयास किया जाएगा और इसे व्यापक रूपसे लोगोंके समक्ष लाया जाएगा !

सीपीएम ‘रामायण मास’के मध्य होने वाले कार्यक्रमोंमें सीपीएम ‘संस्कृत संघ’के माध्यमसे जुडेगी । केरलके सभी १४ प्रान्तोंमें संस्कृत संघकी समितियां हैं और इन समितियोंके अधिकतर सदस्य सीपीएमके हैं । एक ओर तो सीपीएम इन कार्यक्रमोंके द्वारा कांग्रेसको पछाडनेमें लगी है तो वहीं दूसरी ओर इसका लक्ष्य भाजपा और आरएसएसके वृहद होते प्रभावको भी रोकना है ।

स्रोत : अमर उजाला



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution