राम मन्दिर निर्माणपर बोले योगी आदित्‍यनाथ, ये राम ही निर्धारित करेंगे


सितम्बर १, २०१८

मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथने कहा कि २०१९ का लोकसभा मतदान प्रधानमन्त्री मोदीकी उपलब्धियों पर होगा, जिसमें राष्ट्रीय मुद्दे प्रबल रहेंगे । उन्होंने राम मन्दिरके प्रश्नपर कहा कि जो कार्य होना है, वह होकर ही रहेगा, उसे कोई टाल नहीं सकता है, नियतिने जो निर्धारित किया है, वह होकर रहेगा ! राम निर्माणकी तिथि भगवान राम ही निर्धारित करेंगे । योगीने लखनऊमें शनिवारको (१ सितम्बर) हिन्दुस्तान समाचार पत्रद्वारा आयोजित ‘हिन्दुस्तान शिखर समागम’ कार्यक्रममें ये बातें कही । साथ ही उन्होंने सपा-बसपाके गठबन्धनपर भी लक्ष्य साधा । उन्होंने कहा, “प्रदेशमें गठबन्धन इसलिए हो रहा है, क्योंकि वे भाजपासे भयभीत हैं । वे भारतके विकाससे भयभीत हैं । राजनीतिक स्थिरता से भयभीत हैं । यह देशका प्रथम शासन है, जिसने सत्ताका केन्द्र बिन्दू गांव, किसान, मजदूर और महिलाओंको बनाया है । यह बौखलाहट है, जिसमें कहा जा रहा है कि मिलकर मतदान लडेंगे; लेकिन नेताका नाम नहीं बता रहे हैं, क्योंकि उनके पास कोई नेता ही नहीं है ।”


‘मॉब लिंचिंग’के प्रश्नपर उन्होंने कहा कि हिंसा किसी भी स्थितिमें स्वीकार नहीं है । नियमोंको हाथ में लेने अधिकार किसीको नहीं है ! प्रदेशमें पुलिसद्वारा किए जा रहे एनकाउण्टरके प्रश्नपर मुख्यमन्त्रीने कहा कि सभी अधिकारियोंको निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी फर्जी एनकाउण्टर न हो, अन्यथा उनके विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी । मदरसोंके प्रश्नपर योगीने कहा कि इसका आधुनिकीकरण क्यों नही होना चाहिए ? वहांके बच्चोंको आधुनिक शिक्षासे क्यों वंचित करना चाहते हैं ? क्यों उनको धार्मिक शिक्षा तक सीमित रखना चाहते हैं ? आधुनिक शिक्षा सभीको दी जानी चाहिए । इसी परिपेक्ष्यमें हम लोगोंने मदरसोंको भी लिया है ।

 

“योगीजीने उचित ही कहा है, भाजपाका सत्तामें आना भी अब हिन्दू नहीं राम ही निर्धारित करेंगे ।” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution