मिशनरी विद्यालयका काला सच: बल्लेसे पीट-पीटकर नादान छात्रकी हत्या, विद्यालयने दफना दिया शव !


मार्च २८, २०१९


देहरादूनसे एक ईसाई विद्यालयद्वारा घृणित कृत्यका प्रकरण प्रकाशमें आया है । मिशनरी विद्यालय ‘चिल्ड्रेन्स होम एकेडमी’में वरिष्ठोंद्वारा १२ वर्षीय एक बच्चेकी पीट-पीटकर हत्या कर दी गई । आरोप है कि १२वीं कक्षामें पढनेवाले बच्चेने उक्त बच्चेको बिस्किटका पैकेट चोरी करनेका दोषी बताया और फिर ‘बल्ले व स्टंप्स’से पीट-पीटकर उसके प्राण ले लिए । १२ कक्षाके बच्चोंने बच्चेको पहले तो पीटा और उसे वहीं कक्षामें ही छोडकर निकल गए । चोटिल छात्रको चिकित्सालय ले जाया गया, जहां उसकी मृत्यु हो गई; परन्तु इस घटनाके पश्चात विद्यालय प्रशासनने जिस प्रकारका रवैया अपनाया, उसकी चारो ओर निन्दा हो रही है ।

बिस्किटके पैकेटको लेकर आरम्भ हुआ विवाद इतना हिंसक रूप ले लेगा, किसीने सोचा भी नहीं था । यह प्रकरण ऋषिकेश उपमण्डलके रानीपोखरी स्थित ‘होम अकादमी’ नामक विद्यालयका है । मृत छात्रका नाम वासु यादव था । विद्यालय प्रशासन और जौलीग्रांटके चिकित्सक तकने इसे विषाक्त भोजनका प्रकरण बताया; परन्तु पुलिसको इसपर विश्वास नहीं हो रहा था । रानीपोखरी थानाने भी इसे पहले विषाक्त भोजनका ही प्रकरण माना था । मृत छात्र पश्चिमी उत्तर प्रदेश स्थित हापुडका रहनेवाला था । उसके पिता कुष्ठ रोगी हैं ।

अकादमी संचालक स्टीफेन सरकारपर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं होना पुलिसकी भूमिकाको भी संदिग्ध बनाता है । समाचार विभागने प्रकरणको दबानेमें पुलिसका सहयोग होनेकी भी बात कही है । १० मार्चको मृतक सहित सभी बच्चे गिरिजाघर गए हुए थे । उसी समय यह घटना हुई । छात्रोंने मृतक बच्चेको ठन्डे जलसे नहलाया और गन्दा पानी बलपूर्वक पिलाया ।

उत्तराखण्ड बाल अधिकार संरक्षण आयोगकी चेयरपर्सन उषा नेगीके हस्तक्षेपके पश्चात स्थानीय प्रशासनने प्रकरणमें कडाई दिखाई और आगेकी कार्यवाही की । देहरादूनकी एसएसपी निवेदिता कुकरेतीने कहा कि बच्चेको चिकित्सालय पहुंचानेमें देरी की गई । उन्होंने कहा कि विद्यालय प्रशासनने इसमें कई चूक की हैं । विद्यालयके कर्मचारियोंने प्रकरणको छिपानेका प्रत्येक सम्भव प्रयास किया है ।

 

“स्पष्ट है कि प्रत्यक्ष रूपसे विद्यालय, पुलिस प्रशासन इसके लिए उत्तरदायी है । हिन्दू माता-पिता नेत्र मूंदकर बच्चोंको मिशनरी विद्यालयमें भेजते हैं और स्वयंको आधुनिक दिखानेका तो प्रयास करते ही है, साथ ही बच्चेके भविष्यको नष्ट करते हैं । इस प्रकरणसे उन्हें सीखना चाहिए और बालकोंका भविष्य नष्ट करनेवाले इन विद्यालयोंमें भेजना बन्द करना चाहिए । शासन इसपर जांच बैठाए और देखे कि पुलिसने इसे विषाक्त भोजनका प्रकरण क्यों बताया ? यह संदेहास्पद है और प्रत्येक प्रकरणपर हिन्दू-हिन्दू करनेवाले समाचार माध्यमोंने भी इस प्रकरणको क्यों पूर्ण नहीं बताया ? क्यों नहीं बताया गया कि यह घृणित कृत्य एक विद्यालयका नहीं, वरन एक ईसाई विद्यालयका है ! इससे इन सबकी हिदू विरोधी मानसिकताका बोध होता है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : ऑप इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution