हरियाणाके रोहतकमें बाबा गोरखनाथ मंदिरके महन्तकी हत्या !


नवम्बर १३, २०१८

हरियाणाके रोहतक जनपदमें बाबा गोरखनाथ मंदिरके महन्तकी निर्ममताके साथ अज्ञात हत्यारोंने हत्या कर दी ! उनका लहूलुहान शव एक गांवके विरान क्षेत्रसे मिला है । पुलिसने आरोपियोंकी खोज आरम्भ कर दी है; लेकिन अभी तक कोई साक्ष्य पुलिसके हाथ नहीं लग पाया है ।


यह घटना रोहतकके एमपी माजरा गांवके निकट हुई । सोमवार,१२ नवम्बरकी दोपहर एक व्यक्ति झज्जर-बादली रोडपर गांव एमपी माजराके निकटसे जा रहा था । तभी उसने देखा कि सडकसे कुछ दूर विरान स्थानपर एक रक्तरंजित शव पडा है । उस व्यक्तिने इस बातकी सूचना पुलिसको दी । सूचना मिलनेके पश्चात् पुलिस पहुंची और शवकी जांच करनेपर ज्ञात हुआ कि मृतक बाबा गोरखनाथ मंदिरके महन्त विजय थे, जिन्हें तीव्र धार वाले शस्त्रसे (हथियारसे) मारा गया था । पुलिसने घटनास्थलपर एफएसएल दलको भी बुला लिया । दैनिक भास्करके अनुसार पुलिसको वहांसे एक तेजधार शस्त्र भी मिला है, जिसपर रक्त लगा हुआ था ।

पुलिसके अनुसार ५० वर्षीय महंत विजय मंदिरमें अकेले रहते थे । वह मूल रूपसे जनपदके ही भदानी गांवके रहने वाले थे; लेकिन गत एक वर्षसे वह इस मंदिरके महंत थे । मंदिर संस्थापक महंत पंचल नाथने समाधि लेनेसे पूर्व ही मंदिरकी देखरेखका उत्तरदायित्व महंत विजयको सौंप दिया था ।

पुलिसको प्रारम्भिक जांचसे लग रहा है कि बदमाश चोरी या लूटके लिए मंदिरमें आए हों और उन्होंने विरोध करनेपर महंतकी हत्या कर दी हो । घटनाके पश्चात् उनके शवको मंदिरके बाहर फेंक दिया गया हो । पुलिसको ऐसा इसलिए लग रहा है, क्योंकि इससे पूर्व भी वहांके मंदिरोंमें चोरी और लूटपाटकी घटनाएं हो चुकी हैं !
“प्रायः पुजारियों और महन्तोंकी धर्मान्धों व लुटेरोंद्वारा होने वाली हत्याएं हिन्दुओंके लिए चिन्ताका विषय बन गई है । जब महन्त अथवा पुजारी नहीं होंगे तो देवालयोंका संचालन कौन करेगा ? अतः कमसे कम हिन्दुवादी सरकारें इसे गम्भीरतासे ले व इसपर कडी कार्यवाही करे !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution