बालिकाके साथ रेलवे सुरक्षा बलके सैनिकोंने किया सामूहिक दुष्कर्म !!


नवम्बर २, २०१८

२९ अक्तूबरको बिहारके छपरा जंक्शनपर रेलवे पुलिस बल (आरपीएफ) पोस्टमें पुलिसकर्मियोंने अव्यस्क बालिकाके साथ दुष्कर्म किया ! उन्होंने पुलिस थानेमें ही उसके साथ रातभर दुष्कर्म किया ! बच्ची भटककर रेलवे स्टेशन पहुंच गई थी । जवानोंद्वारा इस प्रकारके दुष्कर्म किए जानेके कारण प्रशासनमें हडकम्प मच गया है । इस प्रकरणकी जांच की जा रही है ।

आरपीएफ सैनिकोंद्वारा किए दुष्कर्मकी बात सामने आनेपर बालिका गृहके अधीक्षकने महिला थानेमें प्राथमिकी (एफआईआर) प्रविष्ट करवाई है । उन्होंने इसके बारेमें जिलाधिकारी सहित सभी वरिष्ठ अधिकारियोंको जानकारी दी । घटनाकी जानकारी मिलनेके पश्चात् आरपीएफके महानिरीक्षक (आईजी) राजारामने इसकी जांचके आदेश दे दिए हैं । आदेश मिलनेके पश्चात् सहायक सुरक्षा अधिकारीने (कमांडेंटने) इसकी जांच आरम्भ कर दी है ।

आरपीएफ सैनिकोंको बच्ची संदिग्ध स्थितिमें शामके सात बजे छपरा जंक्शनके बाहर मिली । आरपीएफ सैनिक उसे लेकर आरपीएफ पोस्ट पहुंचे । वह उसे छपरा जंक्शनपर खुले चाइल्ड लाइनको सौंपनेके लिए लेकर गए । यद्यपि वहांके कर्मचारीने यह कहते हुए लडकीको लेनेसे मना कर दिया कि यहां कोई महिला कर्मचारी नहीं है ।

आरपीएफ सैनिक लिखित रूपमें एक महिला कर्मीके सरकारी आवासपर ले जाकर लडकीको सौंप दिया; लेकिन वह उसे कांस्टेबलके घर रखनेके स्थानपर आरपीएफ पोस्ट लेकर आ गए ! यहां उसे उप-निरीक्षकके कक्षमें बंद कर दिया गया, तत्पश्चात रातभर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया ! प्रातः जब उसने यह सब महिला कर्मचारी और महिला कांस्टेबलको बताया तो आरपीएफ सैनिकोंने पिटाई करके उसे चुप करवा दिया !

इसके पश्चात् बच्चीको बालिका गृहको सौंप दिया गया । जब उसने अपने साथ हुए कुकर्मके बारेमें बालिका गृहके अधीक्षकको बताया तो वह चौंक गए । उन्होंने बिना देर किए घटनाके बारेमें अपने वरिष्ठ अधिकारियोंको इसकी जानकारी दी । अधिकारियोंके निर्देशपर लडकीकी सदर चिकित्सालयमें जांच हुई, जिसके पश्चात् प्रकरणमें प्राथमिकी प्रविष्ट हुई ।

“सैनिक वेशभूषा देखकर लोगोंमें एक विश्वास जागृत होता है । ऐसे दुष्कृत्य कर लोगोंके विश्वास व बालिकाका जीवन नष्ट करने वाले कठोरसे कठोर दण्डके पात्र है ! प्रशासन इसपर त्वरित कार्यवाही कर दण्ड निर्धारण करें, ऐसी उनसे अपेक्षा है” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : अमर उजाला



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution