रुसके राष्ट्रपति भी अचम्भित, प्रधानमन्त्रीसे की बात कि कैसे अभिनन्दनने उडा दिया ‘मिग-२१’से ‘एफ-१६’ !


मार्च १, २०१९


भारतके सिंह वायुसेनाके अधिकारी अभिनंदन देश वापस आ चुके हैं । उन्होंने केवल भारतमें ही नहीं, वरन विश्व भरमें अपना नाम कमा लिया है । भारतके अतिरिक्त रुस, अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और चीन जैसे बडे देशोंमें अभिनंदनकी बातें की जा रही हैं ।

अभिनंदनने द्वितीय संततिके (जेनरेशनके) लडाकू विमान ‘मिग-२१’से उन्होंने चतुर्थ संततिके अमेरिकी विमान ‘एफ-१६’को नष्ट किया था । उनकी इस वीरताने सबको अचम्भित कर दिया ! इस घटनासे रुसमें अधिक हलचल है । रुसके राष्ट्रपित व्लादिमीर पुतिन भी विंग कमांडर अभिनंदनकी तीव्र बुद्धिके प्रशंसक हो गए हैं ।

यह प्रत्येकके वशमें नही हैं । जिस बारेमें कोई सोच नहीं सकता था, उसे एक भारतीय सैनिकने कर दिखाया है । इस घटनासे रुसको भी अब अमेरिकापर मनोवैज्ञानिक बल मिला है । रुसके राष्ट्रपति भारतके इस शौर्यसे इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने प्रधानमन्त्री मोदीसे बात भी की है और इस बातकी चर्चा भी हुई कि मिगसे ‘एफ-१६’को उडाया गया है । इसमें पाकिस्तानमें जितनी हडकम्प मची है, अमेरिकामें भी गतिविधियां बढ गई हैं । ऐसे इसलिए क्योंकि ‘एफ-१६’ उसका जेट था और उसकी तकनीकपर अमेरिकाको गर्व था; परन्तु भारतीय सैनिकने उसे नष्टकर भारतका सिर गर्वसे ऊंचा कर दिया ।

 

“ऐसी वीरता व साहसका प्रदर्शन हम भारतीयोंके रक्तमें है ! इस भूमिने सदा ही ऐसे साहसी वीर जन्मे हैं और इस देशने सदैव चमत्कार ही किए हैं, तभी सभी इससे शिक्षा लेते हैं । तभी तो एक षडयन्त्र अन्तर्गत सभी भारतीय युवाओंको लक्ष्य बनाया जा रहख है; क्योंकि इस राष्ट्रकी शक्ति युवा हैं और उन्हीं युवाओंको मादकता, वासना, लोभी, लालची व कामुकताके मदमें अन्धा करनेका चहुंओरसे षडयन्त्र चल रहा है और उसका परिणाम यह हुआ है कि लगभग दो आगामी पीढियां लगभग संस्कारहीन होकर नष्ट हो चुकी हैं ! माता-पिता स्वयं सारा जीवन केवल यदा-कदा धन अर्जित करनेमें लगा देते हैं, धर्म व राष्ट्रके लिए कोई समय नहीं देते हैं तो उनके बखलक भी वही सिखते हैं तो अब जब पुनः इस धराको वीरोंकी आवश्यकता है, जोकि पुनः संस्कार व धर्म निर्माण करनेसे ही आ सकती है !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : न्यूज ट्रेंड



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution