सबरीमालाके देवने अपने द्वार किए बन्द, मन्दिरमें १०० कोटिकी हानि !


अगस्त २४, २०१८

केरलमें सबरीमाला मन्दिर जनताके लिए अगले आदेश तक बंद रहेगा । पम्पा नदीका जलस्तर बढनेपर इसे बंद रखनेका निर्णय किया गया है । मन्दिरको बाढके कारण बंद कर दिया गया था । मन्दिर प्रशासनके अनुसार, बाढके कारण मन्दि को १०० कोटिकी हानि हुई है ।


त्रावणकोर देवासम मण्डलके अध्यक्ष ए. पद्मकुमारने समाचार माध्यमको बताया कि उनके पास मन्दिरको बंद रखनेके अतिरिक्त कोई विकल्प नहीं है । सबरीगिरि परियोजनाके अन्तर्गत दो बांधके द्वार भारी वर्षाके पश्चात खोल दिए गए थे, जिससे आसपासके स्थानोंमें बाढ आ गई । मन्दिरमें पारम्परिक रूपसे पूजा होगी ।

इस निर्णयके पश्चात तमिलनाडुके कई श्रद्धालुओंने अपनी तीर्थयात्रा रद्द कर दी है । मन्दिर केवल नवम्बरके मध्यसे जनवरीके मध्य तक खुला रहता है; लेकिन कई वर्षोसे प्रत्येक मलयालम माहके आरम्भमें कुछ दिवसके लिए खुला रहता है ।

 

“देव शक्तियोंकी उपेक्षा करने वाले हिन्दुओंको ज्ञात हो, वस्तुतः इसे ही देव प्रकोप कहते हैंं ” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : एनडीटीवी इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution