समाजमें धर्म शिक्षण देते समय विशेष ध्यान रखने योग्य तथ्य !


समाजमें धर्म शिक्षण देते समय अर्थात ब्राह्मण वर्णकी साधना करते समय इन तथ्योंका विशेष ध्यान रखना चाहिए :-
•    हम जो भी तथ्य समाजको बताने जा रहे हैं, उनका शास्त्रीय आधार होना परम आवश्यक है; अर्थात वह किसी सन्तद्वारा लिखा गया होना चाहिए ।
•    समाजको धर्मशिक्षण देनेसे पूर्व साधकोंको उन तथ्योंका स्वयं अभ्यासकर उनका मनन-चिन्तनकर उन्हें आत्मसात करना चाहिए । कथनी और करनीमें भेद होनेसे वाणीमें चैतन्य नाममात्र होता है, ऐसेमें समाज उस तथ्यको शीघ्र आत्मसात नहीं करता ।
•    ब्राह्मण वर्णकी सेवासे अहंकारमें अति शीघ्र वृद्धि होनेकी आशंका रहती है, रावण जैसे भक्त एवं महापण्डितका सर्वनाश अहंकारके कारण हुआ; अतः ब्राह्मण वर्णकी सेवा करते समय कर्तापन गुरु या ईश्वरको अर्पण करना कदापि नहीं भूलना चाहिए । जो भी ज्ञान जहांसे सीखा है, उन्हें नम्रतापूर्वक श्रेय देना चाहिए ।
•    सन्त पद प्राप्त होनेपर भी हिन्दू धर्मका अनन्त ज्ञान समाहित किए हुए धर्मशास्त्रोंकी शाब्दिक जानकारी न हो, यह सम्भव है; ऐसेमें सामान्य हिन्दू या साधकको सर्व ज्ञात हो यह सम्भव नहीं; अतः यदि हमें कुछ नहीं आता तो उसे नम्रतापूर्वक स्वीकार कर लेना चाहिए । उसे हम पूछकर बताएंगे, यह कह सकते हैं या मुझे इसका ज्ञान नहीं आपको इस विषयमें कुछ ज्ञात है तो हमें अवश्य बताएं, ऐसा कहना चाहिए ।
•    अपनी स्तुति सुनना टालना चाहिए, इससे अहम् बढनेकी आशंका अधिक रहती है हमारा मन स्तुतिप्रिय होता है; अतः सतर्क रहना चाहिए, किसीने स्तुति की तो स्वयंको बताना चाहिए कि इस स्तुतिके खरे अधिकारी गुरु या वे आचार्य हैं, जिन्होंने उन्हें वह ज्ञान दिया है ।
•    जब तक किसी गुरुकी आज्ञा न हो तब तक अपने चरण स्पर्श नहीं करवाने चाहिए, हमारे श्रीगुरु तो साक्षात परमेश्वरके अवतार हैं, तब भी वे किसीसे अपने चरण स्पर्श नहीं करवाना चाहते हैं, उसका कहना है कि वे भी किसीके शिष्य हैं; अतः किसीसे चरण स्पर्श कैसे करवाएं ? चरण स्पर्शका उनका यह दृष्टिकोण हम सबके लिए अनुकरणीय है ।  किन्तु यदि ऐसा कोई प्रसंग निर्माण हो जाए और लोग हमारे चरण स्पर्श करने लगे तो उसी क्षण ‘यह मेरी देह नहीं, मेरे श्रीगुरुकी ही देह है’ और ‘प्रणाम करनेवाले मुझे नहीं, मेरे श्रीगुरुको नमन कर रहे हैं’ यह भाव रख, सब कुछ ईश्वर चरणोंमें अर्पण करना चाहिए ।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution