‘हलाला’के विरुद्ध अभियोग करने वाली मुस्लिम महिलाको मिली बलात्कार और मारनेकी चेतावनी !


जून २९, २०१८

‘निकाह हलाला’ और ‘बहुविवाह’की कुप्रथा समाप्त करनेके लिए उच्चतम न्यायालयमें आवेदन करने वाली मुस्लिम महिलाको बलात्कार और मारनेकी चेतावनी मिल रही है । न्यायालयमें ‘निकाह हलाला’के विरुद्ध आवेदन करने वाली महिला समीना बेगमका आक्षेप है कि उनपर अभियोग वापस लेनेका दबाव बनाया जा रहा है, जिसके लिए उन्हें मारनेकी चेतावनी दी गई है ।
समीनाके अनुसार, वह ओखला विहारमें भाडेपर घर ढूंढ रही थीं, तभी कुछ लोगोंने उन्हें चेतावनी दी ! समीनाके अनुसार, उन लोगोंने चेतावनी दी कि यदि वह सुरक्षित रहना चाहती है, तो अभियोग वापस ले ले; अन्यथा परिणाम भोगनेके लिए सज्ज रहे ! समीना बेगमका प्रथम निकाह १९९९ में हुआ था और उनके दो बेटे हैं । उत्पीडनकी कई घटनाओंकी पुलिसमें अभियोग करनेके पश्चात उनके पतिने उन्हें ‘तीन तलाक’ दे दिया !, जिसके पश्चात कुटुम्बने समीनाकी बलपूर्वक दूसरा निकाह करा दिया ! दूसरा पति पहले से विवाहित था । जब समीना तीसरी बार गर्भवती हुई, तब उसके दूसरे पतिने चलभाष पर ही उन्हें ‘तलाक’ दे दिया । अब समीना अपने तीन बच्चोंके साथ एकाकी रहती है ।

समीनाने ‘निकाह, हलाला और बहुविवाह’के विरुद्ध उच्चतम न्यायालयमें अभियोग किया है । उनका कहना है कि ये केवल उनके लिए नहीं है, वरन उन महिलाओंके लिए भी है, जिनके साथ ऐसी घटना हो सकती है । समीनाने कहा कि वो नहीं चाहती कि जो वेदना उन्होंने झेली, वह कोई और महिला झेले ! समीनाने न्यायालयसे विनतीकी है कि ‘मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (शरियत) एप्लीकेशन एक्ट १९३७’के भाग २ को एकपक्षीय और विवेकाधीन घोषित किया जाए और इसे संविधानके लेख १४, १५, २१ और २५ का उल्लंघन घोषित किया जाए ! समीना बेगमका कहना है कि बहुविवाहके विरुद्ध भी अभियान चला रही हैं । वह ‘मिशन तलाक’के नामसे एक संगठन चला रही हैं । समाचार माध्यमोंसे वार्ता करते हुए समीना बेगमने बताया, ‘मुझे बलात्कार और मारनेकीे चेतावनी मिल रही हैं । ‘पीआईएल’ वापस लेनेका दबाव बनाया जा रहा है !’ समीनाने कहा, “मैंने ओखला विहारमें भाडेपर एक घर देखा था; लेकिन इसके लिए मुझे हर माह १० सहस्त्र रुपये और ३००० रुपये अलगसे ब्रोकरेज देने के लिए कहा गया । दो दिवस पूर्व जब मैं ओखला विहार पहुंची तो कुछ  स्थानीय लोग और मकान मालिकके पुत्रने मुझपर दबाव बनानेका प्रयास किया । उनलोगोंने कहा कि मैं अभियोग वापस ले लूं, नहीं तो अच्छा नहीं होगा ! “समीनाका यह भी आक्षेप है कि २७ जूनकी शाम उनपर प्रहार भी हुआ ! उन्होंने बताया, “कुछ लोगोंने मेरे साथ दुर्व्यवहार किया ! मेरा सामान रिक्शासे बाहर फेंक दिया, मुझे चेतावनी दी ! उन लोगोंने मेरे वस्त्र भी फाड दिए और चेताया कि यदि मैंने अभियोग वापस नहीं लिया तो मेरे बच्चोंको जीवित ही जला देंगे !” समीनाने पुलिस सुरक्षाकी मांगकी है ।

स्रोत : न्यूज18इण्डिया



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution