सन्त वाणी


शुध्द अन्त:करणसे नामजप करनेसे ईश्वरीय कृपाकी अनुभूति मिलती है,  नामजपसे अन्तर्मन शुध्द होता है, नामजपके कारण ही मन अन्तर्मनमे प्रवेशकर स्थिर हो जाता है । नामजपके कारण चिंता नष्ट हो जाती है तथा साधनाकी तडप भी अपने-आप बढ जाती है – श्री अक्कलकोट स्वामी समर्थ महाराज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution