सन्त वाणी


जिसने इच्छाका त्याग किया है, उसको घर छोडनेकी क्या आवश्यकता है  और जो इच्छाका बंधुआ श्रमिक है, उसको वनमें रहनेसे क्या लाभ हो सकता है ? सच्चा त्यागी जहां रहे वहीं वन और वही भवन, कंदरा है । – वेदव्यास


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution