जाते-जाते अखिलेश शासकीय भवनमें कर गए १० लाखकी हानि, जांच विवरणमें उजागर हुआ !


अगस्त २, २०१८

अखिलेश यादवके आवण्टित शासकीय भवनमें हुई तोडफोड सामने आनेके पश्चात सभीकी दृष्टि जांच ब्यौरेपर टिकी हुई थी । पूर्व मुख्‍यमन्त्री और सपा नेता अखिलेश यादवको आवण्टित हुए शासकीय भवनमें हुई तोडफोडका ब्यौरा आ गया है । सूचनाके अनुसार, जांच कर निर्माण विभागने राज्य सम्पत्ति विभागको उसकी विवरण सौंप दिया है ।

राज्य सम्पत्ति विभागने इस विवरणको मुख्यमन्त्री कार्यालय भेज दिया है । भवन तोडफोड विवादमें जांच समितिने पूर्व मुख्यमन्त्री और समाजवादी पार्टीके अध्यक्ष अखिलेश यादवको शासकीय आवासमें तोडफोडके लिए उत्तरदायी ठहराया है और लगभग १० लाख रुपयेकी हानिका अनुमान लगाया है । २६६ पृष्ठके जांच विवरणको राज्य सम्पत्ति विभागने मुख्यमन्त्री योगीके कार्यालयमें भेज दिया है ।

अधिकतर हानि टाइल्स टूटने व टोटी और पाइप आदि नहीं मिलनेका दर्शाया गया है । सूत्रोंके अनुसार, कार्यवाही करते हुए अब इसकी भरपाईके लिए सपा अध्यक्षको शासन अधिसूचना भेज सकती है । न्यायालयके आदेशपर चार विक्रमादित्य मार्ग स्थित शासकीय भवनको रिक्त करते समय तोडफोडकी गई थी । ऐसे में हानिका आंकलन करनेके लिए लोक निर्माण विभागकी पांच सदस्यीय दल लगाया गया था ।

आपको बता दें कि भवनमें हुई तोडफोडके समाचार आनेके पश्चात समाजवादी दलके मुखियाने संयुक्त समाचार वार्ता (कॉन्फ्रेस) कर कहा कि उत्तरप्रदेशके योगी शासनने उपचुनावकी हारकी खीज मिटानेके लिए तोडफोड करवाई बताया । अखिलेश यादवने कहा था कि शासन बताए कितनी टोटियां गुम हुई हैं, वो सब चुका देंगे ।

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution