सरसों (भाग-२)


सरसोंके बीजके पौष्टिक तत्त्व : सरसोंके बीजके औषधीय गुण, उसमें पाए जानेवाले पौष्टिक तत्त्वोंके कारण होते हैं ।

जल ५ ग्राम, ‘कैलोरी’ ५०८ ‘kcal’, ‘प्रोटीन’ २६ ग्राम, वसा ३६ ग्राम, ‘कार्बोहाइड्रेट’ २८ ग्राम, ‘फाइबर’ १२ ग्राम, मिठास ७ ग्राम, ‘कैल्शियम’ २६६ मिलीग्राम, ‘आयरन’ ९.२० मिलीग्राम, ‘मैग्नीशियम’ ३७० मिलीग्राम, ‘फास्फोरस’ ८३० मिलीग्राम, ‘पोटैशियम’ ७४० मिलीग्राम, ‘सोडियम’ १३ मिलीग्राम, ‘जिंक’ ६ मिलीग्राम, ‘मैंगनीज’ २.५ मिलीग्राम, ‘कॉपर’ ०.६५ मिलीग्राम, ‘सेलेनियम’ २०८ माइक्रोग्राम, ‘विटामिन C’ ७ मिलीग्राम, ‘थायमिन’ ०.८ मिलीग्राम, ‘राइबोफ्लेविन’ ०.२६ मिलीग्राम, ‘नियासिन’ ४.७ मिलीग्राम,

‘विटामिन-B’ ६० मिलीग्राम, ‘फोलेट’ १६२ माइक्रोग्राम, ‘कोलीन’ १२३ मिलीग्राम, ‘विटामिन-A’ २ माइक्रोग्राम, ‘बीटा कैरोटिन’ १८ माइक्रोग्राम, ‘विटामिन-A, ‘विटामिन-E’ ५ माइक्रोग्राम, ‘विटामिन-K’ ५ माइक्रोग्राम, ‘फैटी एसिड सैचुरेटेड’ २ ग्राम, ‘फैटी एसिड मोनोअनसैचुरेटेड’ २२ ग्राम, ‘फैटी एसिड’, ‘पोलीअनसैचुरेटेड’ १०.२ ग्राम,

सरसोंके औषधीय गुण : सरसों हमारे स्वास्थ्यके लिए कई प्रकारसे लाभदायक हो सकती है । ‘एनसीबीआई’के (‘नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफार्मेशन’के) अन्तर्जालके लेखोंमें प्रकाशित एक शोधके अनुसार, सरसोंका प्रत्येक भाग स्वास्थ्यके लिए लाभकारी होता है । इसमें ‘कैरोटीनॉयड’, ‘फेनोलिक कंपाउंड्स’ और ‘ग्लूकोसिनोलेट्स’ जैसे कई प्रकारके ‘फाइटोकेमिकल्स’ पाए जाते हैं । इन ‘फाइटोकेमिकल्स’की सहायतासे कर्करोग (कैंसर), मधुमेह और हृदयाघात जैसे रोगोंसे सुरक्षित रहा जा सकता है । इसमें पाए जानेवाले औषधीय गुण, स्वास्थ्यके लिए लाभकारी हो सकते हैं ।



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution