सात्विक स्थलोंपर सात्विक वस्त्र ही पहनकर जाएंं !


आजकल अनेक लोग सत्संग-प्रवचनमें या मंदिरमें या कोई व्रत-पूजा, धार्मिक अनुष्ठान इत्यादिमें भी पाश्चात्य वस्त्रको पहनकर जाते हैं, जैसे स्त्रियां जींस और टी शर्ट पहन लेती हैं और पुरुष पेंट-शर्ट पहन कर जाते हैं ! ऐसे सभी लोगोंको बताना चाहेंगे कि कमसे कम सात्त्विक कार्यक्रममें तो भारतीय परम्परा अनुसार वस्त्र पहनकर जाया करें; क्योंकि सात्त्विक वस्त्रके द्वारा हम सात्त्विक स्पंदनोंको ग्रहण कर सकते हैं एवं ऐसे स्पंदन हमारे ऊपर कवचका कार्य कर हमारा अनिष्ट शक्तियोंसे रक्षण करती हैं ! ऐसे कार्यक्रमोंमें कृतिम धागेसे बने वस्त्र, काले वस्त्र, तमोगुणी आभूषण, चमडेके वस्त्र जैसे जैकेट, बेल्ट, पर्स इत्यादि पहनकर या लेकर जाना टालें | कहते हैं न जैसा देश वैसा भेष ! अतः वातावरणकी गरिमाका मन रखना सीखें और उससे आध्यात्मिक लाभ उठाएं | माता-पिता अपने बच्चोंमें ये संस्कार बाल्याकालसे ही डालनेका प्रयास करें !



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution