दुर्गा पूजाको सुरक्षाकी कडी व्यवस्था, ३३ जनपद (जिले) संवेदनशील और ३ अतिसंवेदनशील घोषित !!


अक्तूबर १५, २०१८

बिहारमें दुर्गा पूजाके पर्वमें लोगोंमें उत्साह दिख रहा है । दुर्गा पूजामें सुरक्षाको लेकर पुलिस मुख्यालयने बिहारके ३३ जनपदको संवेदनशील और तीनको अतिसंवेदनशील माना है ! पुलिस मुख्यालयने संवेदनशील जनपदमें अतिरिक्त पुलिस बलकी व्यवस्था की है ।

यद्यपि केन्द्र शासनसे शान्तिपूर्ण पूजाके लिए जितने अर्धसैनिक बलोंकी मांग की गई थी, बिहारको उतने बल मिले नहीं । ऐसेमें शांतिपूर्ण पूजाके लिए सुरक्षित व्यवस्था अब पुलिस मुख्यालयके लिए बडी चुनौती बन गई है । दुर्गा पूजामें शान्तिपूर्ण व्यवस्था करना पुलिस मुख्यालयके लिए बडी चुनौती बन गया है । मुख्यालयके स्तरपर हुई समीक्षामें बिहारके ३३ जनपदको पूजाके दृष्टिकोणसे संवेदनशील माना गया है ।
अतिसंवेदनशील तीन जनपदमें अर्धसैनिक बलोंकी तीन कम्पनियां लगाई जाएंगी, जिनकी तैनाती पटना भागलपुर और दरभंगामें की गई है । १६ से २२ अक्तूबर तक इनकी तैनाती रहेगी । सुरक्षाको ध्यानमें रखकर पुलिसने कुछ बडे निर्णय भी लिए हैं :

 

  • अर्धसैनिक बलोंकी कमीको पूरा करनेके लिए पुलिस मुख्यालयने ‘बीएमपी’की ७ कम्पनियोंको तैनात करनेका निर्णय लिया है ।
  • ३३ जनपदोंमें ७ सहस्त्र ९०० अतिरिक्त पुलिसकर्मी लगाए जाएंगे ।
  • ‘सीसीटीवी’ कैमरोंसे पूजा पण्डालोंके आसपास दृष्टि रखी जाएगी ।
  • भीड-भाड वाले क्षेत्रोंमें अग्निशमन (फायर ब्रिगेड) और वाटर कैननकी व्यवस्था की गई है ।
  • साधारण वेशभूषामें (सिविल ड्रेसमें) पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे ।


बिहार सरकारके मन्त्री भी मानते हैं कि पूजाकी दृष्टिसे इसप्रकारकी सुरक्षा व्यवस्था आवश्यक है । शान्तिपूर्ण ढंग से पूजा सम्पन्न कराना पुलिस मुख्यालयके लिए बडी चुनौती बनी हुई है ।

“ध्वजारोहण, तिरंगा यात्रा, दुर्गा पूजा आदि त्यौहारोंपर हिन्दुओंके देशमें हिन्दू भयके वातावरणमें मना रहे हैं, जबकि ईद आदि सब शान्तिसे हो जाता है, इससे अधिक हास्यास्पद क्या होगा ?”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution