शाही इमामने कहा, मोदी शासन तीन तलाकपर थोप रही काला विधान, सहन नहीं करेंगेंं !!


दिसम्बर ३०, २०१८

मौलाना हबीब सानीने मजलिस अहरार इस्लाम हिंद के ८९वें स्थापना दिवस जामा मस्जिद लुधियानामें एक कार्यक्रमके आयोजनपर कहा कि इस दलकी स्थापना भारतके प्रसिद्ध स्वतन्त्रता सेनानी रईस उल अहरार मौलाना हबीब उर रहमान लुधियानवी प्रथम, सैय्यद उल अहरार, सैय्यद अताउल्लाह शाह बुखारी, चौधरी अफजल हकने २९ दिसम्बर १९२९ को लाहौरके हबीब हालमें की थी । यदि आज भी आवश्यकता हुई तो हम अपने देशकी अखण्डताके लिए रक्तकी अन्तिम बूंद भी बहा देंगें ।

उन्होंने कहा कि हम अपना इतिहास अपने रक्तसे लिखते हैं । शाही इमामने कहा कि मोदी शासन तीन तलाकके नामपर एक काला विधान मुस्लिम समुदायपर थोप रही है, जिसे सहन नहीं किया जाएगा । देशके संविधानके अनुसार प्रत्येक एक व्यक्ति अपने धर्म और आस्थाके अनुसार जीवन व्यतीत करनेके लिए स्वतन्त्र है और हमारी ये स्वतन्त्रता कोई राजनीतिक दल नहीं छीन सकता ।

 

“मौलानाजीको बताना चाहेंगें कि आप स्वतन्त्रता हेतु लडे हो सकते हैं, समूचा समुदाय नहीं और यदि कोई व्यक्ति स्वतन्त्रताके लिए लडकर आता है और घरपर आकर अपनी पत्नीको मारपीटकर तलाक देकर सडनेके लिए छोड देता है तो इसे किसी भी मूल्यपर उचित नहीं कहा जा सकता है । यह हिन्दुस्तान है, जहां नारियोंको सदैव ही पूजनीय माना गया है; अतः यहां तो यही विधान ही मान्य है, फिर इस्लाम कुछ भी कहता हो”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : अमर उजाला



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution