परमात्मा मिलनेपर बाहर-भीतर पूर्णतया शान्त होता है


जब तक कोई व्यक्ति ‘अल्लाह हो अल्लाह हो’ का राग ऊंचे स्वरमें आलापता है, तब तक उसे अल्लाह नहीं मिले हैं, यह समझना चाहिए; क्योंकि जिसे अल्लाह मिल जाता है, वह तो शान्त हो जाता है ! – स्वामी राम कृष्ण परमहंस



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution