शास्त्र वचन


अथ यन्मोहसंयुक्तमव्यक्तविषयं भवेत् ।

अप्रतर्क्यमविज्ञेयं   तमस्तदुपधारयेत्॥

अर्थ : भीष्म, युधिष्ठिरसे कहते हैं – जब मनमें कोई मोहयुक्त भाव उत्पन्न हो और किसी भी इन्द्रियका विषय स्पष्ट न जान पडे, उसके विषयमें कोई तर्क भी कार्य न करे और वह किसी प्रकार  समझमें  न  आए, तब  यही  निश्चय  करना  चाहिए  कितमोगुणकी वृद्धि हुई है ।

*****

विद्या शौर्यं च दाक्ष्यं च बलं धैर्यं च पञ्चमम् ।

मित्राणि    सहजान्याहुर्वर्तयन्तीह   तैर्बुधाः ।

अर्थ : शत्रुसे सावधान रहनेके विषयमें युधिष्ठिरको भीष्म, राजा ब्रह्मदत्त तथा पूजनी चिडिया संवाद सुनाते हैं । पूजनी चिडिया कहती है, “विद्या, शूरवीरता, दक्षता, बल और पाञ्चवां धैर्य – ये पाञ्च मनुष्यके स्वाभाविक मित्र बताए गए हैं । विद्वान पुरुष इनके द्वारा ही इस जगतमें सारे कार्य करते हैं ।’’

———



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution