शास्त्र वचन


श्रद्दधानः शुभां विद्या हीनादपि समाप्नुयात् ।

सुवर्णमपि चामेध्यादाददीताविचारयन् ॥

अर्थ : भीष्म, युधिष्ठिरसे कहते हैं : नीच वर्णके पुरुषके पास भी उत्तम विद्या हो तो उसे श्रद्धापूर्वक ग्रहण करनी चाहिए और सोना अपवित्र स्थानमें भी पडा हो तो उसे बिना हिचकिचाहटके उठा लेना चाहिए ।

—–

परेषां यदसूयेत न तत् कुर्यात् स्वयं नरः ।

यो ह्यसूयुस्तथायुक्तः सोsवहासं नियच्छति ॥

अर्थ : पराशर मुनि, राजा जनकको कल्याण प्राप्तिके साधनका उपदेश करते हुए कहते हैं : मनुष्य दूसरेके जिस कर्मकी निन्दा करे, उसको स्वयं भी न करे ! जो दूसरोंकी निन्दा करता है; किन्तु स्वयं उसी निन्द्य कर्ममें लगा रहता है, वह उपहासका पात्र होता है ।



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution