शिष्यके ऊपर गुरुका प्रभाव होना स्वाभाविक !


एक व्यक्तिने फेसबुकपर लिखा है कि आपका सब कुछ सनातन संस्थासे मिलता जुलता है, क्या आप उनसे सम्बन्धित हैं ? पुत्रीके ऊपर माताका प्रभाव, पुत्रके ऊपर पिताका प्रभाव और शिष्यके ऊपर गुरुका प्रभाव होना तो स्वाभाविक है ! और शिष्य तो गुरुके पदचिन्होंपर चलनेवालेको कहते हैं, कृतघ्नोंको शिष्य थोडे ही कहते हैं ! मैंने ‘सनातन’द्वारा सीखे गए सिद्धान्तोंकी आराधना, समष्टिको करवा सकूं और अपने श्रीगुरुको कृतज्ञता इस माध्यमसे व्यक्त कर सकूं इसीलिए ‘उपासना’की स्थापना की है ! 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution