‘शिवराज’ने दिग्विजय सिंहको ‘देशद्रोही’ कहा !


जुलाई १९, २०१८

भोपाल: मध्य प्रदेशके मुख्यमन्त्री शिवराज सिंह चौहानने कांग्रेसके वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमन्त्री दिग्विजय सिंह चौहानको लेकर विवादित वक्तव्य दिया है । शिवराजने अपने एक वक्तव्यमें दिग्विजय सिंहको ‘देशद्रोही’ बताया है और कहा कि यदि किसी आतंकवादीको पुलिस मार दे तो ये ऐसे व्यक्ति हैं, जो उसके घर जाते हैं । चौहानने आगे कहा कि ये आतंकवादियोंको ‘जी’ कह कर सम्बोधित करते हैं । उन्होंने कहा कि कई बार मुझे दिग्विजय सिंहद्वारा उठाए गए ये पग देशद्रोही लगते हैं । आपको बता दें कि मध्य प्रदेशमें इस वर्षके अन्ततक विधानसभा मतदान होने हैं । चुनावी वर्षमें निरन्तर माननीयोंकी भाषाका स्तर गिरता जा रहा है ।

मध्य प्रदेशमें नेताओंके बोल इस प्रकार विवादित हो रहे हैं कि भाषाकी मर्यादाका कोई नाम ही नहीं रह गया है । मध्य प्रदेश शासनके खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मन्त्री ओमप्रकाश धुर्वे मंचपर अपनी मर्यादा ही भूल गए थे । कार्यक्रमके मध्य कांग्रेसपर अपना क्रोध निकालते-निकालते मन्त्रीकी वाणी कुछ इस प्रकार बिगड गई कि वह कांग्रेसको अपशब्दों कहने लगे । यही नहीं मन्त्री ओमप्रकाश धुर्वेने इस मध्य राज्यमन्त्रियोंका भी जमकर उपहास किया । सत्ताके मदमें ओमप्रकाश धुर्वेने कांग्रेसके लिए अपशब्दों कहे । ओमप्रकाश धुर्वेने कहा कि कांग्रेसने कभी गरीबों और आदिवासियोंका विकास नहीं किया । उन्होंने कहा कि कांग्रेसने ही आदिवासियोंको १५ लीटर मद्य बनानेकी छूट देकर ठगा है । उन्होंने कहा कि कांग्रेस चाहती थी कि आदिवासी अवसादमें ही रहें और उसकी लूट चलती रहे । धुर्वेने कहा कि कांग्रेसने इसीलिए आदिवासियोंको मद्यका आदी बना दिया ।


ऐसा नहीं है कि विवादास्पद वक्तव्य देनेका उत्तरदायित्व बीजेपीके नेताओंने ही ले रखा है । मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटीके प्रदेश प्रवक्ता मानक अग्रवालने कहा था कि मध्य प्रदेशमें बलात्कारकी घटनाएं शीघ्रतासे बढ रही हैं । उन्होंने कहा कि इन घटनाओंमें अधिकतर भाजपा नेताओं और आरएसएसके लोगोंके विरुद्ध परिवाद अंकित होती है । उन्होंने कहा कि आरएसएसके लोग इन घटनाओंमें लिप्त पाए जाते हैं । वहीं, मध्य प्रदेश कांग्रेसके प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथने भी बीजेपीके ‘डीएनए’में खोट होनेका विवादित वक्तव्य दिया था ।

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution