श्रीगुरु उवाच


व्यक्तिगत स्वतन्त्रताके नामपर अपने मनके अनुसार वर्तन करनेवाले लोग वैद्यकीय अथवा न्यायालीन आदि किसी भी क्षेत्रमें अपने मनानुसार नहींकर सकते । केवल आध्यात्मिक परम्पराओंके सन्दर्भमें अपने मनके अनुसार करते हैं ! – परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले, संस्थापक, सनातन संस्था
साभार : मराठी दैनिक सनातन प्रभात (https://sanatanprabhat.org)


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution