श्रीगुरु उवाच


आरक्षणकी मांग कर विविध सम्प्रदायोंके अल्पसंख्यकोंको अधोगतिके मार्गपर ले जानेवाले राजनीतिक पक्ष एवं संगठन !
आरक्षण स्वार्थ सिखाता है, इसके विपरीत हिन्दू धर्म त्याग सिखाता है । स्वार्थसे नहीं अपितु त्यागसे आनन्दकी प्राप्ति होती है । सर्वस्वका त्याग करनेपर ही ईश्वरसे एकरूपता साध्य होती है । इस सच्चिदानन्दावस्थाका आरक्षणवालोंको अनुभव नहीं हो सकता ।  



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution