श्रीगुरु उवाच


‘साधना करनेसे कुण्डलिनी शक्ति जागृत होती है’, यह अभी तकके युगोंमें लाखो साधकोंने अनुभव किया है, परन्तु साधनापर विश्वारस न रखनेवाले अंनिस और बुद्धिप्रमाणवादियोंकी कुछ भी साधना न होते हुए भी बोलते है, कुण्डलिनी दिखाओ, नहीं तो वह नहीं है ! – परात्पर गुरु डॉ जयंत आठवले, संस्थापक, सनातन संस्था  
साभार : मराठी दैनिक सनातन प्रभात (https://sanatanprabhat.org)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution