मन्दिरोंका सरकारीकरण क्यों नहीं चाहिए ?


‘भक्तोंके पास ही मंदिर होने चाहिए, तभी भगवानकी सेवा भावपूर्ण होगी । सरकारीकरणके कारण मन्दिरमें भगवानकी सेवा भावपूर्ण नहीं होती और सरकारमें चल रहा भ्रष्टाचार मंदिरमें भी होता है । इससे भगवान मंदिरसे चले जाएंगे और भक्तोंको मंदिरमें जानेका लाभ नहीं होगा ।’ – *परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले, संस्थापक सनातन संस्था*



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution