श्रीगुरु उवाच


सभी जीवोंमें एक भी जीव किसी दूसरे जीव जैसा नहीं होता, उदा. वृक्ष, कुत्ते, उसीप्रकार पृथ्वीके ७५० कोटि मानवोंमें एक भी किसी दूसरे जैसा दिखाई नहीं देता । इतना ही नहीं, उनके वैशिष्ट्य भी भिन्न-भिन्न होते हैं, ऐसा होनेपर भी ‘साम्यवाद’ शब्दका प्रयोग करनेवालोंकी बुद्धि कितनी शूद्र है, यह ज्ञात होता है । – परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले, संस्थापक, सनातन संस्था



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution