श्रीगुरु उवाच


आग न लगे इस हेतु सावधान न रहना, सर्वत्र आग लगनेपर पानी डालना जिसप्रकार मूर्खतापूर्ण है, उसीप्रकार साधना न सिखाकर, विविध माध्यमोंसे भ्रष्टाचार, ‘गुण्डागर्दी’, अनैतिकता इत्यादि फैलने देना तथा तत्पश्चात कुछ किया ऐसा दर्शाना, यह है, आजके विविध राज्यकर्ता पक्षोंकी कार्यपद्धति !
– परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले, संस्थापक, सनातन संस्था



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution