श्रीगुरु उवाच


माता-पिताके प्रति होनी चाहिए कृतज्ञता !

किसीने थोडी बहुत सहायता की, तब भी हम उनके प्रति कृतज्ञ होते हैं । माता-पिता तो हमें जन्म देते हैं, हमें शैशव अवस्थासे बडा करते हैं; अतः उनके प्रति कितनी कृतज्ञता होनी चाहिए ?, माता-पिताके वृद्ध होनेके पश्चात अन्तिम समयतक उनका ध्यान रखना, यह कृतज्ञता व्यक्त करनेका एक मार्ग है । – परात्पर गुरु डॉ . जयन्त आठवले (२९.७.२०१४)



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution