श्रीगुरु उवाच


भ्रष्टाचारी, बलात्कारी, धर्मद्रोही, राष्ट्रद्रोही इत्यादि अपराधियोंको दण्ड देना तथा वह भी अनेक वर्षोंके पश्चात्, यह सतही स्तरका उपाय है । इसके स्थानपर बाल्याकालसे ही सभीसे साधना करवा ली जाये, तो सभी सात्त्विक होंगे । इस कारण उनके मनमें अयोग्य विचार भी नहीं आएंगे । जनतासे साधना तमोगुणी राजनेता नहीं करवा सकते । इस हेतु हिन्दु राष्ट्र ही चाहिए – परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution