श्रीगुरु उवाच- कहां किसान और कहां शासकीय कर्मचारी !


‘किसानोंको अवकाश नहीं । वे सप्ताहके सातों दिवस कष्ट सहकर कृषिका कार्य करते हैं, तो भी वह निर्धन होते हैं । इसके विपरीत शासकीय कर्मचारी सप्ताहके पांच दिवस कार्य करते हैं और उनका कार्य कष्टप्रद भी नहीं होता है; इसलिए निर्धनता क्या होती है, यह उन्हें ज्ञात नहीं होता ।’ – परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले, संस्थापक, सनातन संस्था   (साभार : मराठी दैनिक सनातन प्रभात)



Leave a Reply

Your email address will not be published.

सम्बन्धित लेख


© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution