सीआईएसएफके सैनिक बोले, हमारे हाथ बंधे हैं, आतंकियोंको जीवित न छोडनेकी मिले छूट !


फरवरी १७, २०१९


पुलवामामें ‘सीआरपीएफ’ सैनिकोंपर आतंकी आक्रमणसे गुरुग्रामके कादीपुर स्थित ‘सीआरपीएफ’ शिविरके सैनिकोंमें आक्रोश है । रविवार, १७ फरवरीको ‘हिन्दुस्तान’ दलने सैनिकोंसे बात की तो उनकी भावनाएं नेत्रोंसे अश्रुके रूपमें बाहर आए । इस मध्य सैनिकोंने कहा कि आतंकियोंको जुवित न छोडें । शत्रुमें यदि शक्ति है तो वह सामनेसे प्रहार करे, छिपकर नहीं । वे चाहते हैं कि शासन सैनिकोंको आंतकियोंको जीवित न छोडनेकी छूट दे, ताकि वे इस कायरतापूर्ण कार्यवाहीका प्रखर उत्तर दे सकें । कार्यक्रममें जम्म-कश्मीरकी कार्यसे लौटे सैनिकोंने अपने अनुभव और कठिनाईयोंको साझा किया ।

सैनिकोंने पुलवामा आक्रमणमें हुतात्मा हुए अपने ४० मित्रोंको खोनेके पश्चात भी शत्रुसे लडनेकी हुंकार भरी । श्रद्धांजलि कार्यक्रममें ‘सीआरपीएफ’ सैनिकोंने कहा कि शत्रु सोचता है कि हमारा साहस टूट जाएगा तो वह भ्रममें है । सैनिक सत्येन्द्र सिंहने कि वह बदला लेनेको सज्ज हैं ।


इंस्पेक्टर पूरनमल यादवने जम्मू-कश्मीरमें अपनी तैनातीके अनुभवोंका उल्लेख करते हुए कहा कि हम सैनिक हैं और किसी भी स्थितिसे निपटनेमें सक्षम हैं; परन्तु घाटीमें हमारी कठिनाई केवल शत्रुकी नहीं है, वरन वहांपर सशस्त्र बलोंके पास अधिकार अल्प हैं । इससे भी कठिनाई आती है, अब समय आ गया है, जब ‘धारा – ३७०’पर शासन कोई निर्णय ले । उन्होंने कहा कि इस घटनासे ‘सीआरपीएफ’के सैनिकोंको जोश अल्प नहीं, वरन बढा है । अवसर मिलनेपर इसका प्रखर उत्तर दिया जाएगा ।


इंस्पेक्टर राजू यादवने कहा कि हमारे मनोबलमें कोई न्यूनता नहीं आई है, शासन श्रीलंकाकी भांति सैनिकोंकी सुरक्षाका विधान बनाए और सैनिकोंके विरुद्घ शस्त्र उठानेवालेको आतंकी घोषित करे । यादवने कहा कि हमारे लिए यह दुःखका समय है; परन्तु हमारा साहस सशक्त हैं । उन्होंने कहा कि उन्हें आशा है शासन इस आक्रमणका प्रखर उत्तर देनेका अवसर देगा ।

सीआरपीएफके वरिष्ठ सैनिक चंद्र किशोर सिंहने कहा कि घाटीमें सैनिक प्रतिदिन आतंकियोंको उनके अंजामतक पहुंचा रहे हैं । इसमें ४-५ आतंकी मारे जा रहे हैं । शत्रुने छिपकर उसीका बदला लिया है, जो कायरतापूर्ण है । सिंहने कहा कि आतंकियोंसे सीधा युद्ध आरम्भ होना चाहिए । ६-७ माहमें जम्मू-कश्मीरसे आतंकियोंका नाम मिट जाएगा ।

सीआरपीएफके उपसेनानायक रवि गिलने कहा कि सैनिक युद्धको सज्ज हैं । सैनिकोंको विशेष शक्ति व अधिकार दिए जाए । अभी हमें स्थानीय पुलिसका अनुगमन करना पडता है । हमारे हाथ बंधे हुए हैं, इससे भी शत्रुके विरुद्घ कार्यवाही करनेमें बाधा आती है । उन्होंने कहा कि सीआरपीएफ प्रत्येक ओरसे सक्षम है । वे किसी भी समस्याका सामना कर सकती है । गिलने कहा कि उन्हें आशा है कि प्रधानमन्त्री-गृहमन्त्री इसे बारेमें सशक्त निर्णय लेंगे ।

इस कार्यक्रममें ‘ऑल इंडिया पैरा मिलिट्री पर्सनल एसोसिएशन’के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बीएसएफके पूर्व आईजी कंवर सिंह यादव व इसी एसोसिएशनके नेशनल सेक्रेटरी जनरल के.आर यादव भी उपस्थित रहे । दोनों पूर्व सैनिकोंने कहा कि सीआरपीएफके सैनिकोंको हुतात्माका सम्मान दिया जाना चाहिए ।

 

“लज्जाका विषय है, इन सब कार्योंके लिए भी शासनको कहना पडता है । यदि सब बातें कहनेकी ही आवश्यकता है तो शासकवर्ग अपनी बुद्धिसे क्या केवल बैठके, गठबन्धन और चुनाव विजयी होना जानते हैं ? पत्थरबाज पत्थर मारते हैं और सैनिकोंके शासनने हाथ बांधे हुए हैं ताकि वे चुनाव न हार जाए । शासकवर्ग इसपर कोई बहाना भी धहीं बंआ सकते हैं; क्योंकि एक बार नेताओंके पुत्र सेनामें जाने आरम्भ हुए तो सभी उपाययोजना स्वयं निकलेंगी !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution