आतंकीकी शवयात्रामें सम्मिलित आतंकी समर्थकोंने की पत्थरबाजी, सैनिकों सहित १५ चोटिल !


जनवरी १३, २०१९

 

दक्षिण कश्मीरके शोपियांमें मुठभेडमें मारे गए आतंकी जीनत और उसके मित्रकी शवयात्रामें सम्मिलित होने आ रहे आतंकी समर्थक तत्व हिंसक हो उठे । उन्होंने सुरक्षाबलोंपर पथराव, शस्त्र छीनने और उनके वाहन जलानेका प्रयास किया । इसके चलते झडपोंमें एक महिला व तीन सुरक्षाकर्मियों सहित १५ लोग चोटिल हुए हैं, जिनमें पांचको गोली लगी है । वहीं, स्वचालित शस्त्रोंसे परिपूर्ण आतंकियोंकी शवयात्रामें सम्मिलित होकर मारे गए साथियोंको नमन करते हुए हवामें गोलियां चलाईं !

शनिवार, १२ जनवरीको सुरक्षाबलोंने कठपोरा कुलगाममें अल-बदरके १२ लाख पुरस्कार राशिके आतंकी जीनतको और उसके मित्र फैसलको मार गिराया था । दोनों आतंकी सुगन चिलीपोरा शोपियांके रहनेवाले थे । जीनत कश्मीरमें सक्रिय ऐच्छिक आतंकियोंकी सूचीमें तीसरे क्रमांकपर था । २०१७ में सुरक्षाबलोंद्वारा जारी १२ अति ऐच्छिक आतंकियोंकी सूचीमें सम्मिलित १० आतंकी मारे जा चुके हैं । ऐसेमें अब दो ही आतंकी रियाज नायकू और जाकिर मूसा ही शेष हैं ।

रविवार प्रातः विभिन्न क्षेत्रोंसे लोग आतंकियों एकत्र होनेके लिए पहुंचने लगे । इस मध्य सेनापर पथराव करते हुए उनके शस्त्र छीननेका प्रयास किया । हिंसक भीडने सैन्य वाहनको कथित रूपसे आग लगानेका प्रयास भी किया । ऐसेमें वाहनको भीडसे बचानेके प्रयासमें चालकका नियन्त्रण खो बैठा और एक युवती चोटिल हो गई । इससे स्थिति और बिगड गई । लोगोंको शांत करानेके लिए लाठी चार्ज, आंसूगैस, पैलट गन और गोलियोंका भी आश्रय लेना पडा !

 

“क्या आतंकियोंका समर्थन देनेवाले मुफ्ती व अब्दुल्ला इस प्रकरणपर कुछ कहेंगें ? क्या सेनाको पत्थर मारनेवाले कलको आतंकी नहीं बनेंगें ? परन्तु विडम्बना है कि भारतीय प्रशासनने सेनाके हाथोंको बांधा हुआ है और सैनिक पत्थर खा रहे हैं ! यदि आजकी राजनीति विशुद्ध होती तो एक भी आतंकी समर्थक सेनापर पत्थर मारनेका दुस्साहस न करता ! पूर्वमें अनेक सैनिक पत्थरबाजोंके कारण अपने प्राण दे चुके हैं, क्या कोई राजनेता उस मृत सैनिकका उत्तरदायित्व लेकर अपने पुत्रको सीमापर भेजनेको सज्ज है ? यदि नहीं तो सैनिकोंके हाथ बांधनेका अधिकार क्या उन्हें होना चाहिए ? अब केवल हिन्दू राष्ट्रकी स्थापना ही इस तुष्टिकरणकी नीतिका अन्त कर सकती है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जागरण



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution