वर्तमान समयके ‘होटल’ कहलानेवाले विश्राम गृह अर्थात् भूतोंका प्रमुख स्थल !


धर्मप्रसारके मध्य अनेक बार हमें होटलों (विश्राम गृहों) में भी रुकना पडता है । सूक्ष्म इन्द्रियां कार्यरत होनेके कारण ऐसा कह सकती हूं कि इन स्थानोंपर रुकना अर्थात् कुछ नया घटित होने हेतु सिद्ध रहना होता है, आजका यह लेख इसी प्रकारकी कुछ अनुभूतियोंका संग्रह है । ईश्वरीय कृपासे सदैवसे ही निडर रही हूं एवं अधिकांश समय अकेली ही धर्मप्रसार हेतु यात्राएं कर सेवा की है, ऐसेमें जब भी किसी विश्राम गृहमें रात्रि बिताना हो तो प्रथम रात्रि मेरे साथ कुछ न कुछ निराला घटित होना निश्चित ही होता है, चाहे मैं कितनी भी सतर्क होकर सारे आध्यात्मिक उपाय क्यों न कर लूं; मात्र गुरुकृपाके कारण वे मुझे कभी विशेष कष्ट नहीं दे पाए या भयभीत नहीं कर पाए । प्रस्तुत है सूक्ष्मसे सम्बन्धित ऐसी ही कुछ अनुभूतियां –
* ख्रिस्ताब्द २०११ में धर्मयात्राके मध्य एक साधकने कोस्ट गार्डके एक विश्राम गृहमें देहलीमें रुकवानेकी मेरी व्यवस्था करवाई थी । प्रथम दिवस रेलयानसे (ट्रेनसे) एक दिवस यात्रा करके आनेके पश्चात्, सवेरेसे ही कोई न कोई जिज्ञासु या साधक मिलने आते रहे; अतः मैं रात्रि साढे दस तक अत्यधिक थक चुकी थी और मैं नामजप, प्रार्थना कर, वास्तुशुद्धिकी उदबत्ती जलाकर सो गई । मैं जहां रुकी थी, वह एक ‘सुईट’ थी, जिसमें एक शयन कक्ष और एक बैठक हेतु कक्ष था । मैं अपने कक्षके द्वारकी सिटकिनी बंदकर सोई थी, यह मुझे अच्छेसे स्मरण है । अकस्मात् साढे बारह बजे रातमें मेरे कक्षके द्वारके बार-बार खुलने एवं बंद होनेकी ध्वनिने मेरी नींदको भंग कर दिया । मैंने उठकर द्वारके सिटकिनी पुनः बंद की और समय देखा तो पाया कि अर्ध रात्रिका समय था । कुछ क्षणोंके लिए मुझे नींद नहीं आई और तब मैं सोचने लगी कि मैंने सोनेसे पूर्व इसकी सिटकिनी बंद की थी तो यह खुल कैसे गई, जैसे ही मैंने इसका सूक्ष्मसे निरिक्षण किया तो ज्ञात हुआ कि उस विश्राम गृहकी सभी अनिष्ट शक्तियोंने मेरा ध्यान आकृष्ट करने हेतु यह धृष्टताकी थी, मुझे उन सबकी उपस्थितिकी भी स्पष्ट रूपसे प्रतीति हुई । मैं अत्यधिक थकी हुई थी; अतः पुनः कवच लेकर एवं उन्हें सावधान कर कि मुझे पुनः न जगाएं, यह बताकर सो गई । मैं वहां छः दिवस थी और वह स्थान नोएडामें मुख्य मार्गपर था, तब भी जो भी मुझसे मिलने आनेवाले थे, सभीको वहांकी अनिष्ट शक्तियां दिशाभ्रम कर, उनका समय व्यर्थ अवश्य करती थीं । यद्यपि अगली रातसे ऐसा कोई प्रसंग नहीं हुआ; किन्तु अनिष्ट शक्तियोंकी संख्या इतनी अधिक थी कि मैं रात्रिमें दण्डदीप (ट्यूबलाइट) जलाकर ही सोती थी, जिससे वे अधिक प्रमाणमें उत्पात न कर सकें ।
* ख्रिस्ताब्द २००५ में मैं कोलकाताके दो साधकोंके साथ भुवनेश्वरमें लगे पुस्तक मेलेमें सनातन संस्थाकी ग्रंथ प्रदर्शनीमें सेवा करने हेतु गई थी । वहां भी जिस अतिथिगृहमें हमें जो कक्ष दिया गया था, उसे देखते ही समझ आ रहा था कि वह भूतहा है; अतः जब हमने व्यवस्थापकको उसे परिवर्तित करने हेतु कहा तो वे कहने लगे शेष सभी कक्ष भरे हुए हैं, आपको यदि यहां रहना है तो इसी कक्षमें रहना होगा, हमें वहां दस दिवस रहना था और हमें किसी हितचिन्तकने निःशुल्क दिलवाया था; इसलिए वहां रुकनेके अतिरिक्त हमारे पास और कोई पर्याय नहीं था । पुस्तक मेला एक विशाल खेलके मैदानमें आयोजित हुआ करता था; अतः भीड होनेपर अत्यधिक धूल उडा करती थी । तीसरे दिवस रविवार होनेके कारण हम सभी धूलसे तो भर ही गए थे, अत्यधिक थक भी गए थे; अतः मैंने और एक सह-साधिकाने रात्रिमें स्नान करनेका निर्णय लिया जिससे उष्णता (गर्मी) भरी रातमें अतिथिगृहके पंखेकी खड-खड ध्वनि हमारी निद्राको बाधित न करे और स्नानसे स्वच्छ होनेपर हमें थोडी स्फूर्ति भी मिले । मैं, जब सामूहिक स्नानगृहमें स्नान करने गई और स्नान हेतु वस्त्र उतार ही रही थी कि मुझे भान हुआ कि अनेक अनिष्ट शक्तियां मुझे घूर रही हैं, कुछ क्षणोंके लिए मेरे रोंगटे खडे हो गए और लगा कि वहांसे बिना स्नानके अपने कक्षमें चली जाऊं; परन्तु मैंने थोडा साहस किया; क्योंकि धूल, गर्मी और थकावट तीनोंको दूर करनेका स्नान, एकमात्र उपाय था, तभी मुझे ध्यानमें आया कि मेरी मां मुझे सदैव कहती थी कि रात्रिमें स्नान नहीं करना चाहिए और उस दिवस मुझे उसका कारण ज्ञात हो गया । मैंने वस्त्र धारण कर अपने देहके चारों और कवच मांगकर स्नान कर लिया; परन्तु थकावट अधिक होनेके कारण स्नानके पश्चात् बिछावनपर धडामसे ढेर हो गई । सूक्ष्म युद्धके कारण उस समय मेरी प्राणशक्ति भी अल्प ही रहती थी; अतः मैं और भी अधिक निढाल हो गई थी । हमारी सह-साधिकाने भी मुझे जगाया नहीं और वह कक्षकी बत्ती जली छोड सो गई । अगले दिवस वह मुझसे कहने लगी कि कल रात्रि मैंने स्नानगृहमें अनेक लाल-लाल घूरती आंखें देखी और मुझे अत्यधिक डर लगा; इसलिए रात्रिमें मैं बिना बत्ती बुझाए नामजप करती रही और मुझे अर्ध रात्रि तक नींद नहीं आई और भिन्न प्रकारकी दुर्गन्ध आती रही । उस रात्रि सूक्ष्म युद्ध हुआ था और उस कारण ही वह दुर्गन्ध, उन्हें आ रही थी । अगले दिवस हम नामजप कर और कवच लेकर सोए तो सवेरे देखा कि भीत (दीवार) एवं हमारे चादरपर रक्तके छीटें थे । उस साधिकाको आठ दिवस अत्यधिक कष्ट हुआ, कभी उन्हें नींद नहीं आती थी, तो कभी नींदमें भयानक स्वप्न दिखाई देते थे तो कभी अत्यधिक डर लगता था; किन्तु हमारे पास और कोई उपाय नहीं था; अतः हमें उस भूतहा अतिथिगृहमें दस दिवस रहना ही पडा । मुझे तो सूक्ष्म युद्धके कारण पहलेसे ही कष्ट हो रहे थे, वे मात्र मेरी प्राणशक्तिको और भी न्यून कर देते थे और रात्रिमें सेवासे आनेके पश्चात् लगता था कि अगले दिवस मैं सेवाके लिए नहीं उठ पाउंगी; परन्तु गुरुकृपाके कारण मैं प्रातःकाल जब उठती थी तो स्वयंमें स्फूर्ति (फ्रेशनेस) अनुभव करती थी ।
रक्तके छीटें आना तो हमारे लिए समान्य सी बात थी; क्योंकि सनातन संस्थाके साधकोंके साथ तो इस प्रकारकी घटनाएं अनेक बार हो चुकी थीं । उसी समय जब मैं वाराणसी आश्रममें रहती थी तो जिस कक्षमें मैं रहती उस कक्षके भीतोंपर और मेरी चादरोंपर अनिष्ट शक्तियां काले रंगके छीटें डाला करती थीं, यह क्रम जब व्यवस्थापनने मेरा कक्ष परिवर्तित किया तो वहां भी चलता ही रहा !
* कभी–कभी कुछ प्रवचनके आयोजक विशेषकर जो राजस्थानसे होते हैं वे ‘हेरिटेज होटल’में हमें अत्यधिक रुचि एवं प्रेमसे रुकवाते हैं; परन्तु ऐसे विश्राम गृहकी आध्यात्मिक स्थिति अत्यधिक भयावह होती है, इस सन्दर्भमें एक अनुभूति साझा कर रही हूं । ख्रिस्ताब्द २०१२ में एक फेसबुककी मित्र सूचीके माध्यमसे परिचित एक व्यक्तिने जोधपुर नगरमें मेरे प्रवचन करवानेकी इच्छा दर्शाई; परन्तु उनके घरमें एक तो कोई मुझसे परिचित नहीं थे और संयुक्त परिवार था, साथ ही घरका वातावरण भी अत्यधिक तनावपूर्ण रहता था; अतः वे चाहकर भी मुझे अपने घरमें रुकवानेमें समर्थ नहीं थे । मैं बडे और वैभवशाली विश्राम गृहमें रुकनेकी अपेक्षा किसी साधकके घर रुकना अधिक उचित समझती हूं, इससे दो लाभ होते हैं, एक तो मुझे विश्राम गृहकी अपेक्षा अल्प प्रमाणमें कष्ट होता है और दूसरा उस घरसे सदस्योंको सत्संग मिल जाता है जिससे उनकी वास्तुकी भी शुद्धि हो जाती है । यद्यपि आज सभीके घरोंमें अत्यधिक अनिष्ट शक्तियोंके कष्ट होनेके कारण प्रथम रात्रि मेरे लिए कष्टप्रद ही रहता है; किन्तु मेरा सोचना है कि यदि मेरे थोडे कष्ट सहन करनेइ उस घरके सदस्योंकी वास्तु थोडे कालके लिए शुद्ध हो जाए तो मुझे वह कष्ट मान्य है । सूक्ष्म जगतके सम्बन्धमें जानकारी और आपके अध्यात्मिक स्तरके अनुरूप ही आपको कष्ट होता है, यह अध्यात्मशास्त्रका एक सिद्धान्त है । सामान्यत: मेरे श्रीगुरुका मेरे ऊपर कवच देखकर ही अनिष्ट शक्तियां उनसे गति हेतु मुझे कष्ट देती हैं और मेरे श्रीगुरुकी इतनी कृपा है कि वे मुझे कष्ट देनेवाली शक्तियोंको उनकी वृत्ति अनुरूप या तो उन्हें गति देते हैं या उन्हें दण्डित करते हैं; इसीलिए उन्हें सप्तर्षियोंने भी अवतार कहा है । यातना सह रहे स्थूल और सूक्ष्म जागतके जीवात्माओंका गति देकर उद्धार करना अर्थात कल्याण करना एवं दुष्ट शक्तियोंको दण्ड देना यह अवतारोंका मुख्य कार्य होता है ।
जोधपुरके आयोजकने मुझे एक पुराने महलमें जिसे अब एक हेरिटेज होटलका स्वरुप दे दिया गया था, उसमें रुकवानेका प्रबन्ध किया था । जब वे मुझे लेने रेलवे स्टेशन आए तो उन्होंने अत्यधिक प्रसन्न होकर कहा “मैंने आपके रुकनेकी व्यवस्था एक सुप्रसिद्ध ‘हेरिटेज होटल’में (पुरातन धरोहर जिसे विश्राम गृहका प्रारूप दे दिया गया हो) करवाया है ।” वैसे वे स्वयं भी एक उन्नत हैं, आध्यात्मिक दृष्टिसे उनका आध्यात्मिक स्तर ५०% से ऊपर है और वे एक वास्तु विशारद एवं तंत्रमार्गी साधक भी हैं, तथापि उनकी ओरसे इस प्रकारकी रुकनेकी व्यवस्थाको मैंने ईश्वरेच्छा मान, उनके साथ उस विश्राम गृहमें गई । उन्होंने मेरे लिए अपने भाव अनुरूप एक आरामदायक कक्ष चुना था; परन्तु वह कक्ष आध्यात्मिक दृष्टिसे अत्यधिक कष्टप्रद प्रतीत हुआ, उससे एक विचित्र प्रकारकी सूक्ष्म दुर्गन्ध आ रही थी और उसमें हवा और प्राकृतिक प्रकाश हेतु खिडकी भी नहीं थी तो मैंने अपनी अडचन, उनके एक परिचितके माध्यमसे जो उस समय हमारे साथ थीं, उनसे बताई, उन्होंने विश्राम गृहके व्यवस्थापकको बुलाकर कोई ‘अच्छा एवं मेरे मनोनुकूल कक्ष’ दिखाने हेतु कहा । तीन-चार कक्ष देखनेके पश्चात् एक कक्ष जिसमें सभी कक्षाकी अपेक्षा थोडा अल्प प्रमाणमें कष्ट था, उसके लिए मैंने हामी भरी । रातभरकी यात्रासे मैं थकी हुई थी; अतः प्रसारमें जानेसे पूर्व उनसे आज्ञा लेकर थोडी देरके लिए स्नान और विश्रामकी आज्ञा मांगी । मैंने कक्षका निरीक्षण तो कर लिया था; परन्तु जब स्नानगृह, जिसमें शौचालय संयुक्त था, उसे देखा तो माथेपर हाथ रख लिया, वह तो जैसे सम्पूर्ण विश्रामगृहकी सभी अनिष्ट शक्तियोंका मूल गढ था, मैं हंसने लगी, मैंने बुद्धिमानी करनेका प्रयास किया था; इसलिए अनिष्ट शक्तियोंने मुझे उस कक्षकी माया दिखाकर उल्लू बनाया था । मैं उस कक्षमें तीन दिवस रही, वहांका स्नानगृह अत्यधिक सुन्दर और स्वच्छ था; किन्तु वहांसे जो सूक्ष्म दुर्गन्ध आ रही थी, वह सामान्यतः पिशाचोंसे आती है, जितने समय उस कक्षमें रहती थी, उस स्नानगृहमें सनातन संस्थाकी वास्तुशुद्धि उदबत्ती जलाते रहती थी, तब भी वहांकी अनिष्ट शक्तियोंने मुझे तीन बार स्नानगृहमें धक्का देकर गिरानेका प्रयत्न किया और ईश्वरीय कृपासे मैं प्रत्येक बार बच गई, वह स्नानगृह इस प्रकार बना था कि उसमें तीन स्तर थे, प्रथम स्तरपर हस्तप्रक्षालन हेतु बेसिन था, तीन सीढियोंसे नीचे उतरनेपर शौच हेतु कमोड था और पुनः तीन सीढियोंके पश्चात् स्नानके लिए ‘बाथ-टब’ था, बाह्य रूपसे देखनेसे वह स्नानगृह अत्यधिक सुन्दर लगता था; परन्तु आध्यात्मिक दृष्टिसे भयावह था; यदि मैंने उसमें वास्तुशुद्धिकी उदबत्ती सतत् नहीं जलाई होती तो मेरी दुर्घटना होनी तो वहां निश्चित ही थी !
* इसी प्रकार ख्रिस्ताब्द २०१२ में हम नेपाल गए थे, वहां हमारे साथ एक साधिका भी गई थीं । जनकपुरमें हमें एक दिवसके लिए एक विश्राम गृहमें रुकना था । विश्राम गृहमें हमने तीन कक्ष परिवर्तित किए तब जाकर एक कक्ष जिसमें सबसे अल्प प्रमाणमें कष्ट था, उसमें अपना सामान रखवाया; परन्तु जब हम उसके स्नानगृहमें गए तो पाया कि उसमें अत्यधिक कष्ट था । हमारे साथ जो साधिका थीं, उन्होंने उपासनाके माध्यमसे साधना आरम्भ ही की थीं; अतः मैंने उन्हें सतर्क करते हुए क्हा कि आप जब भी स्नानगृह या शौचालयका उपयोग करें तो नामजप अवश्य किया करें; किन्तु उन्होंने मेरी बात उतनी गंभीरतासे नहीं ली और परिणाम यह हुआ कि अगले दिवस प्रातःकाल उन्हें शौचालयकी दो सीढियोंसे किसीने धक्का दे दिया और वे गिर पडीं, इसकारण उन्हें अगले एक सप्ताह पैर और कमरमें अत्यधिक वेदना रही ।
यह तो मैंने कुछ प्रसंगोंका आपके समक्ष उल्लेख किया है ऐसे अनेक अनुभूतियां हमें धर्मप्रसारके मध्य हो चुकी हैं ।
साधारणत: होटलके कक्षमें सभी प्रकारके लोग आते हैं और कई प्रकारके कुकर्म भी होते हैं; अतः साधकोंकी साधनाका लाभ लेकर गति पाने हेतु या साधकको कष्ट देने हेतु आस-पासकी अनिष्ट शक्तियां साधकपर आक्रमण करती हैं और उनके लिए नींदमें यह करना और भी सरल होता है ।
जब भी हम किसी होटलमें रुकते हैं तो सोनेसे पहले निम्नलिखित आध्यात्मिक उपाय कर सोना चाहिए –
१. प्रवासके समय अपने ओढने और बिछानेवाली चादर अपने साथ अवश्य रखें । होटलके बिछावनपर न सोयें, चाहे वह कितना भी महंगा एवं स्वच्छ क्यों न हो ।
२. निर्धारित स्थलपर पहुंचते ही, अपने इष्टका या गुरुका चित्र होटलके कक्षमें लगा दें । इससे वहांके वास्तुकी शुद्धि होने लगेगी और वास्तु कुछ सीमातक पवित्र हो जाएगा ।
३. सबसे महत्त्वपूर्ण है कि सोनेसे पूर्व बिछावनपर बैठकर १५ मिनट अपने गुरुमंत्रका या इष्टदेवताका मंत्र जपकर सोयें और प्रार्थना इस प्रकार करें, “हे भगवन ! अभी १५ मिनिट जो मैं जप करने जा रही हूं / जा रहा हूं, उस जपसे आज सम्पूर्ण रात्रि मेरा अनिष्ट शक्तियोंसे रक्षण हो और मैं प्रातः निर्धारित समयपर उठ पाऊं और सम्पूर्ण रात्रि मेरे चारों ओर आपके अस्त्र एवं शस्त्रसे कवच-निर्माण हो, ऐसी आप कृपा करें ।’ ध्यानमें रखें कि लेटकर इस कवच हेतु जप न करें, क्योंकि यह जप पूर्ण करनेसे पहले ही अनिष्ट शक्तियां हमें सुला देती हैं, जिससे उनके आक्रमणका कार्य रात्रिमें सरलतासे होता रहे और वे हमें सम्पूर्ण रात्रि कष्ट देते रहें ।
४. अपने बिछावनके चारों ओर देवताओंके सात्त्विक नामजपकी पट्टियां लगा सकते हैं इसे भी अपने साथ लेकर यात्रा करें । (यह हमारे पास उपलब्ध हैं)
५. रात्रिमें अपने लैपटॉपपर या सीडी प्लेयरपर, सात्त्विक नामजपकी सीडी ‘रिपीट’ मोडपर लगाकर सो सकते हैं । (नामजपकी ध्वनिचाक्रिका अर्थात् cd हमारे पास उपलब्ध है)
६. किसी यज्ञकी विभूति या मन्दिरसे प्राप्त विभूति भी साथ लेकर चलें । हथेलीपर चुटकीभर विभूति रखकर अपने बिछवानके चारों ओर सोनेसे पूर्व फूंककर सोएं । ऐसा करनेसे बिछावनके चारों ओरका काला आवरण नष्ट हो जाता है ।
७. विभूतिका टीका लगाकर भी सो सकते हैं । – तनुजा ठाकुर (१७.४.२०१५)


One response to “वर्तमान समयके ‘होटल’ कहलानेवाले विश्राम गृह अर्थात् भूतोंका प्रमुख स्थल !”

  1. राहुल गणपती तारलेकर says:

    माताजी जानकारी बहुत अच्छी लगी आपका बहुत धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution