सुब्रह्मण्यम स्वामीने चेताया, हिन्दू यदि ८०% से अल्प हुए तो समझ लेना कि देश संकटमें है !


फरवरी २४, २०१९

 

भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामीने कहा कि जिस दिवस हिन्दुओंकी जनसंख्या ८० प्रतिशतसे अल्प हुई, समझ लेना देश संकटमें है । उन्होंने ट्वीटकर कहा, “भारतीय सत्य जानते हैं । हिन्दुओंने विदेशी आक्रमणकारियोंको उखाड फेंकनेके लिए शतकों वर्ष युद्ध लडे, इसमें पहले इस्लामिक विश्वास और दूसरा क्रिश्चियन विश्वास है । हिन्दुओंने इसके लिए अपने ७५० वर्ष दिए और निर्धन हुए; परन्तु युद्ध विजयी हुए । ख्रिस्राब्द १९४७ में तथाकथित हिन्दुओंने सत्तापर अधिकार कर लिया । अब इसकी पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए ।”

भाजपा सांसदने कहा, “हम हिन्दुओंको ज्ञात है कि भारतमें रहनेवाले सभी मुस्लिमों और किश्चियनोंके पूर्व हिन्दू हैं । आजके हिन्दुस्तानमें सभी एक परिवारकी भांति एक साथ हैं । इसका अर्थ यह है कि हमारी संस्कृति एक है । यह कहींसे उधार ली हुई या आई हुई नहीं है ।” स्वामीने कहा, “भारतमें हिन्दुओंका बलात धर्म परिवर्तन करने, उन्हें बहकाने या प्रेरित करनेकी अनुमति नहीं होगी । यदि भारतमें हिन्दुओंकी (सिख, जैन, बुद्ध- आर्टिकल २५) जनसंख्या ८० प्रतिशतसे अल्प होती है तो यह संकटकी सूचना होगी ।”



“क्या धर्मनिरपेक्षतामें अन्धे हुए हिन्दुओंको यह सब दिखेगा; क्योंकि उनके अनुसार यह सब भूतकालकी बातें हैं और आज तो सभी २१ शताब्दीमें हैं तो अब सब ठीक है; अतः सत्य समक्ष होते हुए भी नेत्र मूंदकर बैठ जाते हैं । उन्हें दिखाई ही नहीं देता है कि जिन क्षेत्रोंमें एक भी धर्मान्ध अथवा ईसाई नहीं होता था, वहां ग्रामके ग्राम कैसे भर गए ? कैसे ‘ऊं शान्ति’की ध्वनिसे गूंजनेवाले स्थान ‘हैलोलुइया’ और ‘आमीन’से गूंजने लगे ! हिन्दुओ ! यदि अपना अस्तित्वकी रक्षा चाहते हैं तो जागृति आवश्यक है, अन्यथा आनेवाली पीढियां ‘जक हिन्दू धर्म था’, ऐसे स्मरण करेंगीं !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution