तमिलनाडुके विद्यालयोंमें लडकियोंके पायजेब पहननेपर प्रतिबन्ध, मन्त्रीका निराधार वक्तव्य, खनकसे लडकोंका ध्‍यान भटकता है !


दिसम्बर ३, २०१८

तमिलनाडुका शिक्षा विभाग आजकल अपने निर्णयके कारण चर्चामें है । विभागने समूचे तमिलनाडुमें विद्यालयोंमें लडकियोंके पैरोंमें पायल पहनने और बालोंमें फूल लगानेपर प्रतिबन्ध लगानेका निर्णय किया है ! विभागका मानना है कि इससे लडकोंका ध्यान भटकता है । इस सम्बन्धमें तमिलनाडुके कई समाचार पत्रोंमें समाचार प्रकाशित किए गए ।

यह वक्तव्य तमिलनाडु विद्यालय शिक्षा मन्त्रीद्वारा माध्यमिक विद्यालयके छात्रोंको निशुल्क साइकिल वितरणके समय दिया है ।

उन्होंने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि जब पायल पहनी जातघ है तो उसके घुंघरुओंकी ध्वनिसे लडकोंका ध्यान भटक जाता है और उनकी शिक्षामें व्यवधान उत्पन्न होता है । यद्यपि कौई लडकी यदि बालोंमें पुष्प लडाती है तो उससे कोई आपत्ति नहीं है ।

यद्यपि शिक्षा विभागने आधिकारी रूपसे कोई वक्तव्य जारी नहीं किया है, किन्तु विभागने ऐसे निर्देश केवल लडकियोंके लिए जारी किए हैं, अभी तक लडकोंके लिए किसीप्रकारके निर्देश नहीं दिए हैं जैसे बालोंका स्टाइल रखना, कमीजका खोलना या बन्द करना, दाढी रखना आदि ।

“पायल और बालोंमें पुष्प (गजरा) सात्विकताके द्योतक हैं, जो स्त्रीका रक्षण करते हैं, शास्त्र भी कहता है कि जहां नारीकी पूजा होती है, वहां देवता रमण करते हैं; अतः पुरूषोंको धर्मका ज्ञान देकर उनमें सात्विकता निर्माण करनेकी आवश्यकता है न कि पायजेब आदिपर प्रतिबन्ध लगानेकी !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जनसत्ता



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution