थरूरने किया हिन्दुओंका अपमान, कहा कि संगममेंं सब नंगे !!


जनवरी ३०, २०१९

उत्तर प्रदेशके मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथद्वारा मंगलवार, २९ जनवरीको समूचे मन्त्रिमण्डलके साथ संगममें डुबकी लगानेपर कांग्रेस नेता शशि थरूरने टिप्पणी की । योगीकेसाथ अखाडा परिषदके अध्यक्ष नरेंद्र गिरि और अन्य साधु-सन्तोंने भी डुबकी लगाई । संगममें स्नानका चित्र उत्तर प्रदेश प्रशासनने ‘ट्विटर’पर साझा किया, जिसमें मुख्यमन्त्री मन्त्रिमण्डलके साथ नहाते हुए दिख रहे हैं; परन्तु कांग्रेसके वरिष्ठ नेता शशि थरूरने इसपर अपमानित लेख लिखा । थरूरने ‘ट्वीट’ किया था, “गंगा भी स्वच्छ रखनी है और पाप भी यहीं धोने हैं ! इस संगममें सब नंगे हैं ! जय गंगा मैया की !” इसपर उपभोक्ताओंने कहा कि जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी डुबकी लगाएंगे, तब यह लिखना । लोगोंनै लिखा कि आप कैसे गंगाका महत्व समझेंगे ? साथ ही कईने थरूरको स्मरण करवाया कि कब-कब कांग्रेसी नेताओंने गंगामें डुबकी लगाकर अपने पाप धोए ?

एकने लिखा कि समाचार है कि राहुल गांधी भी संगममें स्नानको आने वाले हैं । उनके आनेपर भी यह लिखना । किसीने लिखा कि यह प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी और योगीके कारण है कि आपको भी संगम स्नानका पता चला, अन्यथा कांग्रेसियोंने तो कभी इस ओर ध्यान ही नहीं दिया !

वहीं किसीने लिखा कि आप भी सम्भवतः गए थे एक बार गंगामें अपने पाप धोने; परन्तु आपके पाप इतने अधिक है कि गंगा स्नानके लिए पुनः जन्म लेना पडेगा ।

 

“संगम समूचे हिन्दू धर्मकी आस्थाका केन्द्र है और उसके लिए ऐसे अपमानित शब्दोंका प्रयोग असहनीय है । हिन्दू धर्ममें घरमें भी लोग नग्न स्नान नहीं करते हैं; परन्तु निधर्मी थरूरने निस्सन्देह संकेतोंमें व अल्प शब्दोंमें अपनी बात कहनेका प्रयास किया है; परन्तु यह कहकर देव नदी गंगा, साधु सन्यासियोंको भी अपशब्द कहे हैं, जो हिन्दू धर्मपर आघात है ! यदि कांग्रेसको हिन्दुओंके आस्थाकेन्द्रोंसे इतनी ही घृणा है तो क्यों राहुल गांधी जनेऊ धारण करनेका पाखण्ड करते हैं, क्यों प्रियंका गांधी राजनीतिका आरम्भ संगमसे करनेवाली है । भारत शासन थरूरपर कार्यवाही करे व सभी धर्मप्रेमी निधर्मी थरूरके इस घृणित वक्तव्यका मुखर होकर विरोध करें ! हिन्दुओ ! निधर्मियोंका यह दुस्साहस आप सबके मौनका ही परिणाम है !” – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution