हिन्दुओंकी शक्तिसे भयभीत अब तृणमूल कांग्रेस भी चली ‘सॉफ्ट हिन्दुत्व’की राह, करवाया गोपूजन व गंगा आरती !


नवम्बर १६, २०१८

पश्चिम बंगालमें तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) निरन्तर भाजपापर साम्प्रदायिक होनेका आरोप लगाती रही है । गौको लेकर बीजेपीपर आक्रामक रही टीएमसी अब स्वयं भी ‘सॉफ्ट हिन्दुत्व’की ओर मुडती दिख रही है । टीएमसीके नेता भी इन दिनों गायकी पूजा करते दिख रहे हैं । जी हां, टीएमसीके पूर्व विधायक दिनेश बजाज शुक्रवार, १६ नवम्बरको राज्यके उत्तर २४ परगनामें गो अष्टमीकी पूजा की । इस मध्य दिनेशने १४ गायोंकी पूजा की और सभीको एक विशेष रूपसे तैयारकी गई चुनरीसे सजाया भी गया ! इसके साथ ही सभी गायोंके लिए विशेष भोजनकी भी व्यवस्था की गई थी ।


टीएमसी नेता दिनेश बजाजने कहा, ”गाय भगवानका रूप है और यह हमारी माताके समान है । गाय केवल भाजपा और ‘आरएसएस’की सम्पत्ति नहीं है । गायकी पूजाका अधिकार हमें भी है । इसके लिए हमें बीजेपीसे हिन्दू होनेका प्रमाण-पत्र नहीं चाहिए । हम अपने भगवानोंकी पूजा करेंगे और अन्य धर्मोंके भगवानोंका सम्मान भी करेंगे ।” दिनेश बजाजने बताया कि वह एक वर्ष पूर्वसे इस पूजाका आयोजन कर रहे हैं ।   

दिनेश बजाजने बताया कि आगामी २२ नवम्बरको कोलकाताके प्रिंसेप घाटपर विशेष गंगा आरतीका आयोजन किया जाएगा । उन्होंने बताया कि इस गंगा आरतीके लिए बनारससे पुरोहित आएंगे और यह अपने आपमें प्रथम ऐसा आयोजन होगा । उल्लेखनीय है कि टीएमसीपर भाजपा और अन्य विपक्षी दल अल्पसंख्यकोंके तुष्टिकरणका आरोप लगाती रही हैं । विपक्षी दलोंका मानना है कि टीएमसी तुष्टिकरणके आश्रयपर लाभ उठानेका प्रयास कर रही है ।

वहीं, इन आरोपोंपर टीएमसीका कहना है कि पश्चिम बंगालमें सभी धर्मोंका सम्मान किया जाता है और इस प्रकारके आयोजनोंसे किसी भी तरहका राजनीतिक लाभ नहीं मिलता है । बता दें कि बीरभूमिके जिलाध्यक्ष अनुब्रतने भी ५ दिसम्बरको भजन-कीर्तनका एक बडा आयोजन करनेकी घोषणा की है ।

यह सत्य है कि पश्चिम बंगालमें सभी धर्मोंके त्योहारोंको एक समान उत्साहके साथ मनाया जाता रहा है । लेकिन, टीएमसी नेताओंद्वारा गायकी पूजा करना काफी आश्चर्यजनक लगता है ।

 

“आज सभी राजनीतिक दल हिन्दुओंकी शक्तिसे भयभीत प्रतीत होते हैं । भय भी इतना कि धर्मद्रोही भी अब ‘साफ्ट हिन्दुत्व’की बात कर मेरा भगवान-मेरा भगवान ऐसा करने लगे हैं । हिन्दुओं ! यह आपकी विजय है और संगठित रहिये कुछ दिवसोंमें यही राजनेता तथाकथित धर्मनिरपेक्षताका पाठ भी भूल जाएंगे !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : जी न्यूज



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution