जालमें फंसाकर नीलगाय काट रहे दो धर्मान्ध पकडे गए, कई भागे !!


फरवरी २२, २०१९


कुशीनगरके खड्डा क्षेत्रके ग्राम मिश्रौली स्थित बांधके समीप एक गन्ने खेतमें नीलगाय काट रहे लोगोंको ग्रामीणोंने घेर लिया । सूचनापर पहुंची खड्डा पुलिसने दो आरोपियोंको पकड लिया, जबकि अन्य आरोपी भाग गए ।  पुलिसने मांसको गड्ढेमें पटवाते हुए अभियोग प्रविष्टकर कार्यवाहीमें लगी हुई है ।

हनुमानगंज थाना क्षेत्रके पथलहवा गांव निवासी असरफ अपने साथियोंके साथ गुरुवार, २१ फरवरीको आखेट (शिकार) करनेके नामपर मिश्रौली गांवके बंधेके समीप एक गन्नेके खेतमें ले गया । जहां वह अपने साथियोंके साथ मिलकर जालमें फंसी नीलगायको काटने लगा । इसी मध्य उधरसे क्रिकेट मैच खेलने जा रहे संजय यादव, घनश्याम, रंजीत, गोलू श्रीवास्तव, दशरथ चौधरी, अतुलको इसकी भनक लग गई ।

वे सभी उन लोगोंको घेर लिए और इसकी सूचना पुलिसको दे दी । सूचनापर एसओ खड्डा अनुज कुमार सिंह मयफोर्स वहां पहुंच गए । मौका देख अन्य आरोपी भाग गए, जबकि अमजद व रईश निवासी बैराटोलाको (हनुमानगंज) पुलिसने काटे गए मांसके साथ पकड लिया । पुलिसने मांसको गड्ढा खोदकर पटवा दिया । पकडे गए दोनों आरोपियोंके विरुद्ध ‘वन्यजीव संरक्षण अधिनियम’के अन्तर्गत अभियोग प्रविष्टकर पुलिसने उन्हें कारावास भेज दिया ।

 

“गायकी बार-बार ऐसी विडम्बना केवल इसी बातकी ओर संकेत करती है कि धर्मान्धोंको विधानका अथवा दण्डका भय नहीं है; क्योंकि उन्हें ज्ञात है कि वे बचकर निकल जाएंगें; अतः अब गौरक्षण हेतु केवल और केवल हिन्दू राष्ट्रकी ही आवश्यकता है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान

 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।
© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution