सबरीमालापर हिन्दुओंके प्रखर विरोधके आगे प्रशासन पस्त !


अक्तूबर २१, २०१८

केरलके सबरीमाला देवालयमें प्रवेशको लेकर हुए विवादमें उच्चतम न्यायालयके आदेशपर प्रदर्शनकारी भारी पड रहे हैं । एक ओर देशका सर्वोच्च न्यायालय सभी आयुकी महिलाओंको देवालयमें प्रवेशकी अनुमति दे चुका है तो वहीं दूसरी ओर प्रदर्शनकारी १० से ५० वर्षकी आयुवर्ग महिलाओंको देवालयमें न घुसने देनेकी जिद पर अडे हैं । रविवार, २१ अक्तूबरको भी कडी सुरक्षाके मध्य देवालय जा रही दो महिलाओंको प्रदर्शनकारियोंने वापस लौटनेपर विवश कर दिया ।

देवालयके द्वार खुले पांच दिवस हो रहे हैं और १० वर्ष से ५० वर्षके मध्यकी आयु वाली किसी भी महिलाको देवालयमें प्रवेश नहीं करने दिया गया है । आरम्भमें तो प्रदर्शनकारी इस प्रकार हावी रहे कि देवालयकी ओर जाने वाले सरकारी और निजी वाहनोंको रोककर महिलाओंको वापस भेजा गया । अगले कुछ दिवसोंमें पुलिस भारी सुरक्षाके मध्य महिलाओंको देवालयके द्वार तक लेकर गई तो वहां उपस्थित प्रदर्शनकारियोंके सामने झुकना पडा ।

सबरीमाला जा रहीं ‘न्यू यॉर्क टाइम्स’की सम्वाददाता सुहासिनीसे प्रदर्शनकारियोंने अभद्रता की और वाहनोंपर भी प्रहार किया गया । रविवारको भी कडी सुरक्षामें दो महिलाओंको लेकर पुलिस देवालयकी ओर जा रही थी; लेकिन प्रदर्शनकारियोंने उन्हें आगे बढनेसे बाधित कर दिया । इसके पश्चात दोनोंको पंबामें पुलिस नियन्त्रण कक्ष लाया गया । शेष श्रद्धालु देवालयमें गत पांच दिवसोंसे दर्शन करने दूर-दूर से आ रहे हैं ।

केरल आईजीने लौटाई गई महिलाओंको लेकर कहा कि वे नियमोंकी जानकारी मिलनेके पश्चात सबरीमाला नहीं जाना चाहती थीं । उन्होंने कहा, “वे आंध्र प्रदेशके एक श्रद्धालुओंके समूहका भाग थीं और शेष देवालयोंमें भी जा चुकी थीं । उन्हें सबरीमालाके विशेष नियमोंका ज्ञान नहीं था, जब उनसे किसीने कहा कि वह देवालय नहीं जा सकतीं तो वह नहीं जाना चाहती थीं और उन्होंने यह वक्तव्य भी दिया ।”

“केवल हिन्दुओंके अस्थास्थानको चोट पहुंचानेके लिए नागरिकोंकी सुरक्षाको छोड शासनने सम्पूर्ण सुरक्षा तन्त्रको सबरीमालामें केवल महिलाओंके प्रवेशके लिए रखा है, इसमें शासकीयकोषकी हानिकी भरपाई कौन करेगा ? स्वयं विचार करें !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : नभाटा



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution