उत्तरप्रदेश विधानसभामें सपा-बसपा विधायकोंने किया अपने-अपने दलोंके संस्कारोंका प्रदर्शन, राज्यपालपर फेंके कागदके गोले !


जनवरी ५, २०१९


उत्तर प्रदेश विधानसभामें मंगलवार, ५ फरवरीको हंगामा हुआ । यहां राज्यपालके अभिभाषणके मध्य मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टीके विधायकोंने हाथोंमें फलक (पोस्टर) लेकर उत्पात किया । दावा किया जा रहा है कि विधानसभाके भीतर दोनों दलोंके विधायकोंने राज्यपालपर कागदके (कागजके) गोले भी फेंकें !

दूसरी ओर विधायकोंके इस उत्पातके समय विधायक सुभाष पासी मूर्च्छित भी हो गए !  उल्लेखनीय है कि उत्तरप्रदेश विधानसभाका बजट-सत्र आरम्भ हो गया है । यह सत्र २२ फरवरीतक चलेगा और ७ फरवरीको योगी अपना तीसरा बजट प्रस्तुत करेंगें ।

इस अनुशासनहीनताको राज्यपाल अध्यक्षकी कुर्सीसे खडे होकर देखते रहे और सामने लाल व नीली टोपी पहले विधानसभा सदस्य उद्घोष (नारेबाजी) करते रहे !! विपक्षी विधायकोंके इस कृत्यकी मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथने आलोचना की है । उन्होंने इस घटनाक्रमको अलोकतान्त्रिक बताया है ।

 

योगीने कहा, “जिस ढंगसे राज्यपालके विरुद्घ उद्घोष किए गए और सपा विधायकोंने कागदके गोले राज्यपालपर फेंके, वह निन्दनीय है । उनके इस व्यवहारसे अनुमान लगाया जा सकता है कि वह किसप्रकारकी व्यवस्था चाहते हैं ।

 

सपा विधायकोंने सदनके बाहर भी विरोध प्रदर्शन किया . प्रदेशमें पशुओंसे हो रही किसानोंको कठिनाई और अवैध खननकी लूट जैसे मुद्दोंपर सपा विधायकोंने योगी शासनको घेरा ।

 

“सपा-बसपा विधायक विरोध नहीं वरन नौटंकी कर रहे हैं । विरोध करता हुआ वह अच्छा प्रतीत होता है कि जैसे उनके शासनमें सर्वत्र प्रसन्नता थी और अब नहीं है; परन्तु यहां तो स्थिति सुधरी ही है तो क्या किसी भी प्रकरणको उठाकर विरोध करनेमें इन्हें लाज नहीं आती है ? माना कि सभी अशिक्षित व संस्कारहीन हो सकते हैं कि उन्हें इसका ज्ञान न हो; परन्तु उनसे तो सामान्य सभ्य आचरणकी कल्पना नहीं कर सकते हैं । अब तो लज्जा भी भारतीय राजनीतिसे लुप्तप्राय हो गई है । जब अयोग्य चयनकर्ता नेता चयनित करते हैं तो अयोग्य ही होगा न ? उत्तरप्रदेशकी राजनीति आज भी यादव-दलितपर ही घूमती है ! इस स्थितिको परिवर्तित करनेके लिए हिन्दू राष्ट्रकी आवश्यकता है !”- सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

स्रोत : आजतक



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution