४२ परिवारके लोग धर्म बदल बने ईसाई, प्रचारक बन्दी बनाया गया


नवम्बर १४, २०१८

लहुरीकाशीके दर्जनों गांवोंमें गैरधर्म प्रचारकोंके आनेके पश्चात् ४२ परिवार सनातन धर्म त्यागकर ईसाई बन गए ! आरोप है कि खानपुरके जल्दीपुर, नेवादा ओर बिझवलमें तीस से अधिक हिन्दू परिवारोंका प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन कराया गया ! वहीं बहरियाबादमें १२ परिवारोंसे डेढ दर्जन लोगोंके धर्म परिवर्तनसे हडकम्प मच गया है । डीएमने एसडीएम और पुलिसको जांच व कार्यवाहीके निर्देश दिए हैं । एसओ खानपुरने बिझवलके प्रमुख प्रचारक गुड्डू रामको बन्दी बनाया है ।


जनपदके भिन्न-भिन्न क्षेत्रोंमें गत लगभग १५ माहसे प्रत्येक रविवार चल रहीं प्रार्थना सभाओंके पश्चात् गत कुछ दिवसोंमें लगभग ४२ परिवारोंका धर्म परिवर्तन कराया गया ! आरोप है कि खानपुर, बहरियाबाद और औडिहारके दर्जनों गांवोंमें मिशनरीके लोग धन और चिकित्साका प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तनकी शिक्षा दे रहे हैं । खानपुरके जल्दीपुर, नेवादा ओर बिझवलमें तीससे अधिक हिन्दू परिवारोंका प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन कराया गया !

बहरियाबादके फौलादपुरमें १२ परिवारोंसे डेढ दर्जन लोगोंने घरोंमें यीशूकी प्रतिमा और क्रास लगाया है ! सबसे अधिक लोग एससी/एसटी और पिछडे वर्गसे हैं ! जनपदमें खुलेमें प्रार्थना सभाओं और धर्म परिवर्तनका प्रकरण प्रकाशमें आनेके पश्चात् प्रशासन स्तब्ध है । डीएम के. बाला जीने प्रकरणपर कडी कार्यवाही करनेके लिए एसडीएम और सम्बन्धित थानोंके एसओको कहा हैं । उन्होंने एसडीएम सैदपुर समेत एसओ खानपुर और एसओ बहरियाबादको कार्यवाहीके निर्देश दिए । इसके पश्चात् पुलिसने छापेमारी कर प्रचारक गुड्डू रामको बन्दी बना लिया है । वहीं दूसरी ओर पुलिसकी कार्यवाहीके पश्चात् लोग घर छोडकर भूमिगत हो गए हैं !

“ईसाई मिशनरी धर्मान्धोंसे भी बृहद संकटके रूपमें उभर कर सामने आ रही है और लक्ष्य निर्धन हिन्दू होते हैं ! इस विकट परिस्थितिसे निपटनेके लिए हिन्दुवादी सरकारें शीघ्रातिशीघ्र कठोरसे कठोर पग उठाए व दण्ड दें और हिन्दुवादी संस्थाएं भी मुखर होकर इन्हें खदेडे, अन्यथा ये राष्ट्रपर एक बडा संकट बन सकते हैं ! – सम्पादक, वैदिक उपासना पीठ

 

स्रोत : लाइव हिन्दुस्तान



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


सूचना: समाचार / आलेखमें उद्धृत स्रोत यूआरऍल केवल समाचार / लेख प्रकाशित होनेकी तारीखपर वैध हो सकता है। उनमेंसे ज्यादातर एक दिनसे कुछ महीने पश्चात अमान्य हो सकते हैं जब कोई URL काम करनेमें विफल रहता है, तो आप स्रोत वेबसाइटके शीर्ष स्तरपर जा सकते हैं और समाचार / लेखकी खोज कर सकते हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित समाचार / लेख विभिन्न स्रोतोंसे एकत्र किए जाते हैं और समाचार / आलेखकी जिम्मेदारी स्रोतपर ही निर्भर होते हैं। वैदिक उपासना पीठ या इसकी वेबसाइट किसी भी तरहसे जुड़ी नहीं है और न ही यहां प्रस्तुत समाचार / लेख सामग्रीके लिए जिम्मेदार है। इस लेखमें व्यक्त राय लेखक लेखकोंकी राय है लेखकद्वारा दी गई सूचना, तथ्यों या राय, वैदिक उपासना पीठके विचारोंको प्रतिबिंबित नहीं करती है, इसके लिए वैदिक उपासना पीठ जिम्मेदार या उत्तरदायी नहीं है। लेखक इस लेखमें किसी भी जानकारीकी सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता और वैधताके लिए उत्तरदायी है।

विडियो

© 2021. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution