उत्तिष्ठ कौन्तेय !


सेनामें सैनिक अधिकारियोंपर स्थानान्तरणको लेकर लगे हैं भ्रष्टाचारके आरोप
केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरोने (सीबीआईने) २.६.२०१७ को सेना मुख्यालयमें वरिष्ठ सैन्य अधिकारियोंकी संलिप्ततावाले स्थानान्तरणके अवैध कार्यका रहस्योद्घाटन किया है । ये अधिकारी उत्कोच (घूस) लेकर नियुक्तिमें उलट-फेर कर रहे थे । इस प्रकरणमें केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरोने सेना मुख्यालयमें पदस्थापित एक ले. कर्नलके विरुद्ध आरोप प्रविष्ट किया है । दो और सेनाके वरिष्ठ अधिकारियोंपर इस स्थानान्तरणके अवैध कार्यें सहभागी होनेका आरोप है । इस प्रकरणमें और भी सेनाके उच्च पदस्थ अधिकारियोंकी संलिप्तताकी आशंका जताई जा रही है । जब वाहनके (गाडीके) एक या दो विकल (पुर्जे) बिगड जाएं तो उन्हें परिवर्तित कर सकते हैं; परन्तु जब सारे अवयव (पुर्जे) बिगड जाएं और गाडी अनुपयोगी (खटारा) हो जाए तो गाडीको अवस्कर विक्रेताको (कबाडीको) विक्रय कर नूतन गाडी लेना चाहिए ! वैसे ही जब समाजमें सब स्तरपर भ्रष्टाचार और व्यभिचार व्याप्त हो जाए तो क्रान्तिके अतिरिक्त दूसरा कोई पर्याय शेष नहीं रहता; अतः अब मात्र और मात्र क्रान्ति ही इस देशको एक नूतन संरचना दे सकती है एवं तभी समाज सुखी हो सकता है । (३.६.२०१७)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सम्बन्धित लेख


© 2017. Vedic Upasna. All rights reserved. Origin IT Solution